नेपाल में रविवार को हुए विमान हादसे में यात्रियों की मौत के बाद इनके घरों में कोहराम मच गया. लोगों के लिए इस हादसे पर यकीन करना मुश्किल हो रहा है. रविवार को जैसे ही यात्रियों के परिजनों को हादसे की सूचना मिली, वह अपनों की जानकारी के लिए बेचैन हो गए. प्रार्थनाओं का दौर शुरू हो गया. हालांकि जैसे ही हादसे की पूरी खबर सामने आई, लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई. वहीं इस हादसे में उत्तर प्रदेश के पांच लोगों की भी मौत हुई है. इनमें चार युवा गाजीपुर जनपद के बताए जा रहे हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर शोक जताया है.

हादसे में गाजीपुर जिले के चकजैनब गांव निवासी सोनू जायसवाल (35), चकदरिया चकजैनब निवासी अनिल राजभर (27), अलावलपुर अफ्गां निवासी विशाल शर्मा (22) और धरवां गांव निवासी अभिषेक सिंह कुशवाहा (25) की मौत हो गई. ये सभी दोस्त थे और नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन के लिए तीन दिन पहले नेपाल गए थे. सभी मित्र नेपाल के प्रसिद्ध पर्यटक स्थल पोखरा जाने के लिए रविवार सुबह काठमांडू से विमान में सवार हुए. उत्तर प्रदेश एक अन्य मृतक की पुष्टि संजय जायसवाल के रूप में हुई है. पोखरा एयरपोर्ट पर उतरते समय प्लेन क्रैश कर गया.

देर शाम करीब बरेसर थाने पर चारों युवकों के मौत की सूचना मिली. पुलिस ने घटना की जानकारी परिजनों को दी, जिसके बाद कोहराम मच गया. मृतकों के घर के बाहर ग्रामीणों की भीड़ दरवाजे पर जुट गई. गांव के लोग परिजनों को सांत्वना देने में जुटे रहे. वहीं पीड़ित परिवार नेपाल रवाना हो गए हैं.

हादसे से पहले का एक वीडियो भी सामने आया है. गाजीपुर का सोनू जायसवाल हादसे के वक्त फेसबुक पर लाइव था. पहले वह विमान के अंदर और बाहर का दृश्य दिखाता है. इस दौरान विमान में सभी यात्री खुश नजर आ रहे हैं. कुछ सेंकेड बाद विमान हवा में गोते खाने लगता है. अचानक आग की लपटें दिखाई देने लगती हैं और प्लेन क्रैश हो जाता है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर शोक जताया है. उन्होंने ट्वीट किया कि नेपाल में हुई विमान दुर्घटना अत्यंत दुःखद है. इसमें भारतीय नागरिकों समेत काल-कवलित हुए सभी लोगों के प्रति विनम्र श्रद्धांजलि.मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं. उन्होंने कहा कि प्रभु श्री राम दिवंगत आत्माओं को अपने श्री चरणों में स्थान व घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें. सीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश के काल-कवलित हुए लोगों के पार्थिव शरीर को राज्य में लाने की व्यवस्था करने के लिए अधिकारियों को विदेश मंत्रालय से समन्वय करने हेतु निर्देश दिए गए हैं.

हादसे में मारे गए लोगों की डीएनए सैंपलिंग की जाएगी. इस हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के शव को रिकवर कर लिया गया है. रिकवर किए गये जिन शवों को पहचाना मुमकिन नहीं है, नेपाल सरकार उन शवों की डीएनए सैंपलिंग कराने जा रही है. इसलिए मारे गए लोगों के शव हेलीकॉप्टर के जरिए काठमांडू भेजे जाएंगे.

बताया जा रहा है कि विमान ने काठमांडू के त्रिभुवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उड़ान भरी थी I