BJP नेता तजिंदर बग्गा की गिरफ्तारी पर 5 जुलाई तक लगी रोक, पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

BJP नेता तजिंदर बग्गा की गिरफ्तारी पर 5 जुलाई तक लगी रोक, पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा को बड़ी राहत देते हुए उनकी अंतरिम सुरक्षा जारी रखने का आदेश दिया. वहीं उनकी गिरफ्तारी पर भी 5 जुलाई तक रोक लगा दी गई है. हालांकि हाईकोर्ट ने कहा है कि पंजाब पुलिस बग्गा के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर उनसे पूछताछ कर सकती है. न्यायमूर्ति अनूप चितकारा ने मामले में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करने पर पंजाब पर सवाल उठाया. ग्रीष्म अवकाश के बाद मामले की अगली सुनवाई 5 जुलाई को होगी.

अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल सत्य पाल जैन ने अवैध हिरासत के आरोपों का खंडन किया और कहा कि एक भी अधिकारी को हिरासत में नहीं लिया गया. इस संबंध में दिल्ली पुलिस पहले ही एक हलफनामा दाखिल कर चुकी है. भाजपा नेता ने 7 मई को मोहाली कोर्ट द्वारा उनके खिलाफ जारी गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट को चुनौती देते हुए उच्च न्यायालय का रुख किया था. पंजाब सरकार ने अपनी बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका में दो आवेदन दायर किए थे. एक केंद्र को मामले में पक्षकार बनाने के लिए और दूसरा दिल्ली और हरियाणा पुलिस को सीसीटीवी कैमरों को संरक्षित करने के लिए निर्देश देने के लिए आवेदन किए थे.

पंजाब ने हरियाणा सरकार के खिलाफ बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि बीजेपी नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा की गिरफ्तारी में शामिल पंजाब पुलिस के 12 अधिकारियों को हरियाणा पुलिस ने कुरुक्षेत्र में हिरासत में लिया है. पंजाब ने भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय सचिव बग्गा को भी हिरासत में लेने की मांग की, जिन्हें पिछले महीने मोहाली में उनके खिलाफ दर्ज एक मामले के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था. अपनी याचिका में पंजाब सरकार ने आरोप लगाया था कि जब पंजाब पुलिस बग्गा को एसएएस नगर (मोहाली) ले जा रही थी, तो उसे एरिया मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के लिए हरियाणा पुलिस ने उन्हें बीच में रोक दिया और उन्हें कुरुक्षेत्र ले आए, जहां उनकी हिरासत दिल्ली पुलिस को दे दी गई.

Share this story