कांवड़ियों से भरी बस हादसे का शिकार हो गई है. NH-27 पर हुए इस हादसे में बस का अगला हिस्सा चकनाचूर हो गया. इस बस में 56 कांवड़िये सवार थे. हादसे के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई.

नेपाल के सोनौली बॉर्डर के रहने वाले शिवभक्तों का जत्था झारखंड के देवघर के लिए निकला था. सभी 56 लोग बस में बैठकर बाबाधाम जा रहे थे. तभी बिहार के गोपालगंज जिले में कुचायकोट थाना क्षेत्र के भोपतापुर के पास NH-27 पर बस हादसे का शिकार हो गई. कांवड़ियों से भरी बस ने पहले से रुके ट्रक में जोरदार टक्‍कर मार दी. कांवड़ियों से लदी बस नेपाल से देवघर जा रही थी. कांवड़ियों की बस दुर्घटनाग्रस्‍त होने की सूचना मिलते ही स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की एंबुलेंस मौके पर पहुंच गई और घायलों को अस्‍पताल ले जाया गया. घायल कांवड़ियों को इलाज के लिए कुचायकोट CHC और सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. 7 कांवड़ियों की हालत गंभीर बताई जा रही है. हादसे की वजह NH-27 पर ट्रकों की अवैध पार्किंग को बताया जा रहा है. वहीं, कहा यह भी जा रहा है कि बस चालक को झपकी आ गई थी, जिस वजह से वाहन पर उनका नियंत्रण नहीं रहा. 

हादसे के बाद कांवड़ियों से भरी बस के परखच्‍चे उड़ गए. हादसा होने के बाद NH पर जाम की स्थिति पैदा हो गई. हादसे में बस में सवार 56 में 40 से ज्यादा कांवड़िया घायल हो गए हैं. इनमें महेश विश्वकर्मा, इंद्रावती सहनी, कलावती देवी, शनिचरा देवी, दुसही देवी, रामपति देवी, जगदीश चंद, तारामती देवी, बासपति देवी, दीनानाथ गुप्ता, इंद्रावती देवी, राजकुमारी देवी, राधेश्याम, प्रहलाद, तिरथ केवट, राजेश त्रिपाठी, छोटेलाल सहनी, प्रेमा देवी आदि शामिल हैं.