डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन ने गुरुवार को एयर इंडिया पर नाराजगी जताई है. उन्होंने इस दौरान एयर इंडिया को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. डीजीसीए ने यह नोटिस एयर इंडिया के अधिकारियों और चालक दल को जारी किया है.

डीजीसीए ने यह कदम न्यूयॉर्क-दिल्ली फ्लाइट में एक युवक ने एक महिला के ऊपर पेशाब करने के मामले के सामने आने के बाद उठाया है. नोटिस में डीजीसीए ने गंभीर सवाल उठाए हैं.

जानकारी के मुताबिक डीजीसीए की ओर से जारी नोटिस में पूछा गया है कि, ‘ड्यूटी में लापरवाही के लिए एयर इंडिया और इसके अधिकारियों, चालक दल के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए.’ इस दौरान नोटिस में डीजीसीए ने कहा कि एयरलाइन का आचरण गैर पेशेवर प्रतीत होता है. नोटिस में कहा गया था कि जिसके कारण प्रणालीगत विफलता हुई है. दरअसल एयर इंडिया की फ्लाइट में 26 नवंबर को नशे में धुत एक युवक ने सहयात्री एक बुजुर्ग महिला के ऊपर पेशाब कर दिया था. इस मामले में एयर इंडिया की ओर से पुख्ता कार्रवाई नहीं की गई थी. हाल ही में यह मामला सामने आया है. आरोपी युवक मुंबई का एक बिजनेसमैन बताया जा रहा है. जिसने नशे की हालत में फ्लाइट में यह घिनौना काम किया है.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को कहा था कि एअर इंडिया को दी गई पीड़िता की शिकायत के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 294 (सार्वजनिक स्थान पर अश्लील हरकत), 354 (महिला को अपमानित करने के इरादे से उस पर हमला या आपराधिक बल प्रयोग), 509 (शब्द, इशारा या किसी महिला की लज्जा भंग करने का इरादा) और 510 (शराबी व्यक्ति द्वारा सार्वजनिक रूप से गलत व्यवहार) के साथ-साथ विमान नियमों के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इससे पहले डीजीसीए ने एयर इंडिया से उड़ान में एक व्यक्ति द्वारा सह-यात्री पर पेशाब करने की घटना को लेकर रिपोर्ट मांगी है. नियामक संस्था ने कहा कि वह घटना के संबंध में लापरवाही बरतने वालों पर कार्रवाई करेगी. एयर इंडिया ने मामले की जांच और उचित कार्रवाई के लिए आंतरिक समिति गठित की है.