लंदन: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने प्रत्येक वर्ष यूके में काम करने के लिए भारत के युवा पेशेवरों के लिए 3,000 वीजा के लिए हरी झंडी दे दी है.

ब्रिटिश सरकार ने कहा कि भारत इस तरह की योजना से लाभान्वित होने वाला पहला देश है, जो पिछले साल ब्रिटेन-भारत प्रवासन और गतिशीलता साझेदारी की ताकत पर प्रकाश डालता है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से एक एक ट्वीट में कहा गया, 'आज यूके-इंडिया यंग प्रोफेशनल्स स्कीम की पुष्टि की गई, जिसमें 18-30 वर्षीय डिग्री-शिक्षित भारतीय नागरिकों को ब्रिटेन में आने और दो साल तक काम करने के लिए 3,000 युवाओं को अवसर प्रदान किया गया है.' ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से यह घोषणा ऋषि सुनक द्वारा जी20 शिखर सम्मेलन के 17वें संस्करण के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के कुछ घंटे बाद की गई.

पिछले महीने भारतीय मूल के पहले ब्रिटिश पीएम के पद संभालने के बाद यह उनकी पहली बैठक थी. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया, 'योजना का शुभारंभ भारत के साथ हमारे द्विपक्षीय संबंधों और भारत-प्रशांत क्षेत्र के साथ मजबूत संबंध बनाने के लिए ब्रिटेन की व्यापक प्रतिबद्धता दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है.'

इसमें कहा गया है कि भारत-प्रशांत क्षेत्र के किसी भी देश की तुलना में ब्रिटेन के साथ भारत का संबंध अधिक गहरा है. ब्रिटेन में सभी अंतर्राष्ट्रीय छात्रों में से लगभग एक चौथाई भारत से है. वहीं, भारतीय निवेश से पूरे ब्रिटेन में 95,000 नौकरियों का सृजन होता है. ब्रिटेन वर्तमान में भारत के साथ एक व्यापार समझौते पर बातचीत कर रहा है.

अगर सहमत हो जाता है तो यह भारत द्वारा किसी यूरोपीय देश के साथ किया गया अपनी तरह का पहला सौदा होगा. यह व्यापार सौदा ब्रिटेन-भारत व्यापारिक संबंध पर बनेगा, जो पहले से ही 24 बिलियन पाउंड का है, और ब्रिटेन को भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था द्वारा प्रस्तुत अवसरों को प्राप्त करने की अनुमति देगा.