एयर इंडिया एयरलाइंस ने आज उस व्यक्ति पर 30 दिनों के लिए बैन लगा दिया जिसने नवंबर 2022 के दौरान न्यूयॉर्क से दिल्ली के लिए फ्लाइट में यात्रा के दौरान बिजनेस क्लास में यात्रा कर रही एक बुजुर्ग महिला पर कथित तौर पर पेशाब कर दिया था.

इस मामले पर अब Air India ने संज्ञान लिया है और इसके साथ ही DGCA ने भी इस घटना से जुड़ी रिपोर्ट्स की मांग की है.

एयर इंडिया ने कहा कि पिछले साल नवंबर में न्यूयॉर्क से दिल्ली आ रही उड़ान के दौरान सहयात्री पर पेशाब करने वाले यात्री पर आगामी 30 दिनों के लिए यात्रा प्रतिबंध लगा दिया गया है और एक आंतरिक समिति बनाकर यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि मामले की जानकारी मिलने पर चालक दल के सदस्यों की तरफ से क्या कार्रवाई की गई.

 आज ही विमानन नियामक डीजीसीए ने कहा कि उसने पिछले साल 26 नवंबर को हुई घटना को लेकर एयरलाइन से रिपोर्ट मांगी है. डीजीसीए ने कहा कि- मामले में विमानन कंपनी के जो कर्मी लापरवाही बरतने के दोषी पाए जाएंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

एयर इंडिया ने कहा कि उसने इस संबंध में पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज कराया है. विमानन कंपनी ने हालांकि यह स्पष्ट नहीं किया कि यह यात्रा प्रतिबंध कब से प्रभावी होगा. खबरों के अनुसार, 26 नवंबर को न्यूयॉर्क से दिल्ली आ रही एक उड़ान में नशे में धुत एक पुरुष यात्री ने एक महिला यात्री के ऊपर पेशाब कर दी थी.

एयर इंडिया के एक प्रवक्ता ने एक बयान में बताया कि एयरलाइन ने मामले को काफी गंभीरता से लिया है. प्रवक्ता के अनुसार, कंपनी ने आरोपी यात्री पर आगामी 30 दिन तक यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया है. उनके अनुसार, कंपनी के पास किसी यात्री पर अधिकतम 30 दिन का यात्रा प्रतिबंध लगाने का अधिकार होता है. आगे बयान में प्रवक्ता न बताया कि आगे की कार्रवाई के लिए घटना की सूचना डीजीसीए को दे दी गई है.

एयर इंडिया ने हालांकि यह बताने से इंकार कर दिया कि आरोपी पर यात्रा प्रतिबंध कब लगाया गया. बयान के अनुसार, हमने एयर इंडिया के चालक दल की तरफ से हुई ढिलाई और स्थिति का तत्काल समाधान करने में हुई देरी का पता लगाने के लिए एक आंतरिक समिति गठित की है. नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा- हमने एयरलाइन से रिपोर्ट मांगी है और लापरवाही बरतने वालों पर कार्रवाई की जाएगी.

विमानन कंपनी के एक अधिकारी ने कहा कि मामले की जांच और उचित कार्रवाई के लिए एक आंतरिक समिति गठित कर दी गई है. उन्होंने कहा- हमने घटना के बारे में सुना है, जिसमें एक यात्री ने सहयात्री से दुर्व्यवहार किया, जो अस्वीकार्य है. हम जांच के दौरान पीड़ित यात्री और उनके परिवार के बराबर संपर्क में रहे हैंi