शहीद बेटे की तस्वीर देख भावुक हुई मां, अपने बेटे की तस्वीर को चूमती और फूट-फूटकर रोती, देखिये 

शहीद बेटे की तस्वीर देख भावुक हुई मां, अपने बेटे की तस्वीर को चूमती और फूट-फूटकर रोती, देखिये 

 जब एक जवान शहीद होता है तो पूरा देश उसके लिए अपनी श्रद्धांजलि देता है, लोग उसके शौर्य को याद करते हैं लेकिन एक मां के लिए यह सबसे दुखद क्षण होता है।

साल 2014 में सुकमा में अपने बेटे को खो देने का बाद जब मां ने बेटे की तस्वीर को पोस्टर में देखा तो वह भावुक हो गई। बेटे की तस्वीर देख मां के भावुक होने की मार्मिक तस्वीर सामने आई है। शहीद बेटे की तस्वीर को देखकर मां भावुक हो जाती है और खुद के आंसू नहीं रोक पाती है। अपने बेटे की तस्वीर को चूमती है और उसके प्रति अपना प्यार जाहिर करती है।

भावुक मां बेटे की तस्वीर को चूमने लगती है

बता दें कि सुकमा जिले के दोरनापाल में 223वीं बटालियन की स्थापना दिवस कार्यक्रम में मां भावुक हो गई। इस कार्यक्रम में शहीदों के परिवार वालों को बुलाया गया था। जब मां कार्यक्रम में अपने शहीद बेटे की तस्वीर को देखती है तो वह फूट-फूटकर रोने लगती है। अपने बेटे की तस्वीर के सामने खड़े होकर उसे सहलाने लगती है, उसे चूमती है। मां की इस ममता को देखकर वहां मौजूद हर किसी की आंखे नम हो जाती है।

2014 में 17 जवान हुए थे शहीद

शहीद स्मारक पर सीआरपीएफ के डीआईज योज्ञान सिंह, एसपी सुनील शर्मा और कमांडेंट रघुवंश सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान डीआईजी ज्ञान सिंह ने बताया कि सीआरपीएफ के 223वीं बटालियन की स्थापना दिवस के मौके पर शहीद स्मारक बनाया गया है, जहां 2014 में कसालपाड़ में नक्सलियों से मुठभेड़ के दौरान 17 जवान शहीद हो गए थे। शहीद स्मारक पर सभी शहीदों की तस्वीरें लगाई गई हैं।

शहीदों के परिजनों को दिए गए 1-1 लाख रुपए

कार्यक्रम में शहीदों के परिजनों को भी आमंत्रित किया या था। इस कार्यक्रम में शहीद जवानों के परिजनों को बटालियन की ओर से एक लाख रुपए की राशि दी गई। इस दौरान एक शहीद के पिता ने कहा कि मेरे बेटे ने जीते जी सबकुछ दे दिया और बलिदान देकर भी सम्मान दे राह है। 

Share this story