दर्दनाक हादसा: सरकारी अस्पताल की शिशु नर्सरी में लगे वार्मर में अचानक तापमान बढ़ जाने से दो मासूम बच्चों की हुई मौत

दर्दनाक हादसा: सरकारी अस्पताल की शिशु नर्सरी में लगे वार्मर में अचानक तापमान बढ़ जाने से दो मासूम बच्चों की हुई मौत

 राजस्थान के अजमेर जिले के ब्यावर कस्बे में हुये दर्दनाक हादसे (Heart wrenching incident) में सरकारी अस्पताल की शिशु नर्सरी में लगे वार्मर में अचानक तापमान बढ़ जाने से दो मासूम बच्चों की मौत हो गई. बताया जा रहा है उस समय दो-तीन दफा बिजली आई और गई इससे वार्मर के सेंसर में शॉर्ट सर्किट (Short circuit in warmer) हो जाने से उसका तापमान बढ़ गया.

इससे मासूमों की मौत हो गई. घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और हालात का जायजा लिया. पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है. वहीं हादसे में अपने बच्चों को खो चुके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है.

जानकारी के अनुसार हादसा ब्यावर के राजकीय अमृतकौर अस्पताल में हुआ. वहां सोमवार देर शाम को शॉर्ट सर्किट के चलते दो मासूम बच्चों की मौत हो गई. यह हादसा लाइट ट्रिपिंग की वजह से हुआ बताया जा है. हादसे की सूचना मिलते ही ब्यावर एसडीएम राहुल जैन, पुलिस उपाधीक्षक सुमित मेहरड़ा और पीएमओ सुरेन्द्र चौहान मौके पर पहुंचे और उन्होंने हालात का जायजा लिया.

वार्मर के सेंसर में शॉर्ट सर्किट हो गया

एसडीएम राहुल जैन ने बताया की तकनीकी समस्या के चलते यह हादसा हुआ है. अस्पताल में रात करीब आठ बजे लाइट अचानक ट्रिपिंग करने लगी. इसके चलते शिशु नर्सरी में लगे वार्मर के सेंसर में शॉर्ट सर्किट हो गया. इससे वार्मर का तापमान अचानक बढ़ गया और उसमें रखे गये 2 मासूम बच्चों की मौत हो गई. अस्पताल में मौजूद चिकित्सकों और स्टाफ ने बच्चों को बचाने का प्रयास किया लेकिन सफल नहीं हो पाये.

मासूमों के परिजनों में मचा कोहराम

हादसे के शिकार हुये मासूमों में से एक का जन्म 15 अप्रेल को हुआ था जबकि दूसरे का 7 अप्रेल को हुआ था. बच्चों के कमजोर स्वास्थ्य के चलते उनको शिशु नर्सरी में भर्ती करवाया गया था. वहां उनका इलाज चल रहा था. हादसे में मासूम बच्चों की मौत की खबर सुनते ही उनके परिजनों में कोहराम मच गया. चिकित्सा विभाग और पुलिस प्रशासन पूरे मामले की जांच कर रहा. गनीमत रही वार्मर में हुए शॉर्ट सर्किट पर तुरंत काबू पा लिया गया नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था.

Share this story