पात्रा चॉल जमीन और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में संजय राउत के बाद अब ED ने उनकी पत्नी वर्षा राउत को समन भेजा है। मिली जानकारी के मुताबिक उनके खाते में हुए संदिग्ध लेन-देन को लेकर ED उनसे पूछताछ करनेवाली है। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में संजय राउत के अलावा उनकी पत्नी और कुछ सहयोगियों के शामिल होने के आरोप हैं। गुरुवार को संजय राउत को 8 अगस्त तक ED की हिरासत में भेजे जाने के फैसले के तुरंत बाद ED ने मामले की जांच आगे बढ़ाने के लिए वर्षा राउत को समन जारी किया है।

ED के अनुसार कि वर्षा राउत के खाते में किए गए लेनदेन के सामने आने के बाद समन जारी किया गया है। वर्षा राउत के खाते में असंबंधित व्यक्तियों से 1.08 करोड़ रुपये की राशि प्राप्त हुई थी। इससे पहले अप्रैल में ED ने वर्षा राउत और उनके दो सहयोगियों की 11.15 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति को अस्थायी रूप से कुर्क कर लिया था।

शिवसेना सांसद संजय राउत को ED ने पात्रा चॉल जमीन मामले में रविवार को ED के अधिकारियों ने उनके घर की तलाशी ली और करीब 6 घंटे की पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार किया था। ED कोर्ट में पेश करने के बाद उन्हें पहले 4 अगस्त तक रिमांड में भेजा गया। मुंबई के गोरेगांव के पात्रा चॉल जमीन में 1,043 करोड़ रुपए के घोटाला का आरोप है। महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवेलपमेंट अथॉरिटी के इस जमीन में संजय राउत की 9 करोड़ रुपए और राउत की पत्नी वर्षा की 2 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त हो चुकी है।

आरोप है कि रियल एस्टेट कारोबारी प्रवीण राउत ने पात्रा चॉल में रह रहे लोगों से धोखा किया है। एक कंस्ट्रक्शन कंपनी को इस जमीन पर 3000 फ्लैट बनाने का काम मिला था। इनमें 672 फ्लैट रहवासियों और बाकी महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवेलपमेंट अथॉरिटी को दिए जाने थे। लेकिन साल 2011 में इस जमीन के कुछ हिस्सों को दूसरे बिल्डरों को बेच दिया गया था।