सावन के महीने में देश दुनिया से भक्त काशी आ रहे हैं और बाबा विश्वनाथ का दर्शन पूजन कर रहे हैं। वहीं काशी विश्वनाथ मंदिर में मंदिर के सेवादार और दर्शनार्थी आपस में भिड़ गए। किसी तरह मामला शांत हुआ, इस मामले में जहां मंदिर के सेवादारों ने पुलिस के असहयोग की शिकायत मुख्य कार्यपालक अधिकारी से की तो वही दर्शनार्थियों ने अपने साथ हुई मारपीट की शिकायत संबंधित थाने में की।

बता दे कि, शनिवार शाम काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में सप्तर्षि आरती का समय हो रहा था। गर्भगृह को बंद कराया जा रहा था कि उसी समय 2 दर्शनार्थी गर्भगृह में प्रवेश को लेकर और दर्शन करने की जिद पर सेवादारों से उलझ गए। इतना ही नहीं मंदिर के सेवादारों और दर्शनार्थियों के बीच गर्भगृह के भीतर ही मारपीट भी शुरू हो गई। बड़ी मुश्किल से दोनों दर्शनार्थी गर्भगृह के बाहर निकले, यह सारा वाकया वहां लगे CCTV कैमरे में भी कैद हो गया।

इस मामले के बारे में सेवादारों ने मंदिर के CEO सुनील वर्मा को पत्र लिखकर घटना से अवगत कराया और पुलिस द्वारा सहयोग न करने की भी शिकायत की। तो वहीं श्रद्धालुओं की ओर से भी संबंधित चौक थाने में 4 सेवादारों और मंदिर के PRO के खिलाफ तहरीर दी गई। वाराणसी के कृष्णानंद गुप्ता ने इस मामले में 5 लोगों के खिलाफ चौक थाने में तहरीर दी है। इसमें तपन, शिवानंद पांडेय, राजू, तम्मी और PRO अखिलेश के नाम शामिल हैं।