कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अहमदाबाद में 'परिवर्तन संकल्प रैली' में गुजरात के लोगों को संबोधित किया. उन्होंने इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले कई वादे किए.

किसानों के लिए ऋण माफी से लेकर कोविड -19 तक किसी प्रियजन को खोने वाले परिवारों के मुआवजे तक के लिए राहुल गांधी ने आगामी चुनाव जीतने के कांग्रेस के मौके को सुरक्षित करने की कोशिश की. गांधी ने शीर्ष उद्योगपतियों के ऋण माफ करने के लिए नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को जमकर बरसे. उन्होंने कहा, ''यहां की भाजपा सरकार शीर्ष उद्योगपतियों का कर्ज माफ करेगी, लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि उन्होंने किसानों का कर्ज माफ किया है?''

राहुल ने कहा, सरदार पटेल किसानों की आवाज थे. भाजपा एक तरफ उनकी सबसे ऊंची प्रतिमा बनाती है दूसरी तरफ उन लोगों के खिलाफ काम करती है, जिनके लिए उन्होंने लड़ाई लड़ी. गांधी ने वादा किया कि अगर हम गुजरात में सत्ता में आए, तो हम किसानों को 3 लाख रुपये तक का कर्ज माफ कर देंगे. 'परिवर्तन संकल्प' रैली के बाद गांधी साबरमती आश्रम गए जहां वह एक प्रार्थना सभा में शामिल हुए. राहुल  ने आखिरी बार 10 मई को गुजरात का दौरा किया था जब उन्होंने दाहोद शहर में आदिवासियों को संबोधित किया था. राहुल की गुजरात यात्रा 7 सितंबर को पार्टी की 'भारत जोड़ी यात्रा' शुरू करने से दो दिन पहले हो रही है. पार्टी नेताओं ने कहा कि कांग्रेस ने इस साल के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए तीन महीने के लंबे अभियान की तैयारी की है. उन्होंने बताया कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी वाड्रा राहुल गांधी इस दौरान प्रचार करेंगे. उन्होंने कहा कि पार्टी का लक्ष्य 15 सितंबर तक उम्मीदवारों की पहली सूची जारी करना है.

रैली में राहुल ने किए वादे 
-किसानों का 3 लाख रुपये तक का कर्ज माफ किया जाएगा
-3000 अंग्रेजी माध्यम के स्कूल खुलेंगे; लड़कियों को मिलेगी मुफ्त शिक्षा
-दुग्ध उत्पादकों को 5 रुपये की सब्सिडी
-गैस सिलेंडर 500 रुपये में दिया जाएगा
-कांग्रेस कोविड महामारी के दौरान मारे गए लोगों के परिवारों को 4 लाख रुपये का मुआवजा देगी
-किसानों के लिए मुफ्त बिजली; आम उपभोक्ताओं को 300 यूनिट मुफ्त बिजली
-गुजरात में 10 लाख युवाओं को रोजगार देने पर होगा फोकस