New Delhi: राजधानी दिल्ली में लाल किले पर आयोजित ‘जय हिंद लाइट एंड साउंड‘ शो में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जो इतिहास से नहीं सीखते हैं वो महान देश की रचना नहीं करते.

आज एक घंटे से कम के समय में शानदार तरीके से भारत का इतिहास समेटा गया. आजादी के अमृतवर्ष में ये कार्यक्रम हो रहा है. जो देश सोने की चिड़िया कहा जाता था, पूरे कालखंड को इस शो ने समेटा है. हमारी युवा पीढ़ी इससे जानेगी. इस तरीके के प्रोग्राम को देशभर में करना चाहिए.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि ये देश सोने की चिड़िया मानने वाला ये देश है. भारत को कहां पहुंचना है इस लक्ष्य का निर्धारण हो गया है. मोदीजी ने अमृतकाल के नाम से इसे संकल्पित कराया है. विश्व में सर्वप्रथम बनाने का लक्ष्य मोदीजी ने रखा है. ऊर्जा से देश आगे बढ़ रहा है. भारत सर्वप्रथम और भारत सबसे प्रथम का लक्ष्य है. देशभर के एतिहासिक स्थानों को लाल किले की तरह प्रेरणा स्थान होना चाहिए.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा ने कहा कि आज ध्वनि और प्रकाश शो में बहुत संक्षिप्त समय में भारत के हजारों साल के इतिहास से लेकर आज तक के कई सारे बोध, कई सारी सीख, कई सारी गौरव लेने वाली बातों को सामंजस्य के साथ यहां पर समाहित करने का काम किया है. इसके लिए मैं पूरी टीम को बधाई देता हूं. उन्होंने कहा कि हमारे पास एक विजन होना चाहिए कि हमारा देश अगले 25 सालों में विभिन्न क्षेत्रों में कहां होना चाहिए और इसे पूरा करने की दिशा में काम करना चाहिए. अगले 25 वर्षों में भारत को सबसे शक्तिशाली राष्ट्र होना चाहिए.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा आज इस लाइट एंड साउंड शो का उद्घाटन किया. हिंदी और इंग्लिश में राष्ट्रभक्ति पर आधारित लाइट एंड साउंड शो 700 लोग प्रतिदिन देख सकेंगे. करीब 5 साल बाद लाइट एंड साउंड शो लाल किले में शुरू हुआ है. 1 घंटे के इस लाइट एंड साउंड शो कार्यक्रम में 17वीं शताब्दी से लेकर आजादी की लड़ाई तक की कई अहम घटनाओं का ब्योरा पेश किया जाएगा.

इस शो के जरिए भारतीय योद्धा और वीरों के पुरुषार्थ को व्यक्त किया जाएगा खासकर मराठा शासक और योद्धाओं को लेकर. आजादी की लड़ाई में नेताजी सुभाष चंद्र बोस और उनकी आईएनए के प्रताप पर आधारित कार्यक्रमों को प्रमुखता से इस शो के जरिए लालकिला के दीवार पर उकेरा जाएगा. आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत इस शो का आयोजन किया जा रहा है.