अलीगढ़ के एक प्राइवेट स्कूल में नर्सरी में पढ़ने वाली बच्ची के पिता का गुनाह सिर्फ इतना था कि उन्होंने स्कूल प्रशासन से पूछ लिया कि स्कूल में हिंदी क्यों नहीं पढ़ाई जा रही है. सवाल से तिलमिलाए स्कूल प्रशासन ने बच्ची को निकाल दिया. जिसके बाद बच्ची के परिजनों ने DM कार्यालय में जाकर न्याय की गुहार लगाई है. DM इंद्र विक्रम सिंह ने शिकायत का संज्ञान लेते हुए मामले की जांच बीएसए को सौंप दी है.

अलीगढ़ के थाना क्वार्सी इलाके फोर्ट एल्कलेव, पंजीपुर गांव निवासी मोहम्मद आमिर ने बताया कि इसी साल उन्होंने अपनी बेटी का नज़दीकी 'इस्लामिक मिशन स्कूल', पंजीपुर में क्लास नर्सरी 2022-2023 में दाखिला कराया था. कुछ महीने बीत जाने के बाद भी उनकी बेटी को हिंदी ठीक से लिखनी नहीं आई. जिसके चलते वह अपनी बेटी व पत्नी के साथ स्कूल पहुंचे और वहां स्कूल में हिंदी न पढ़ाये जाने के संबंध जब शिकायत करते हुए पूछा. आरोप है कि स्कूल ने बदसलूकी करते हुए उनकी बेटी को स्कूल से निकाल दिया. उन्होंने यह भी आरोपी लगाया है कि स्कूल में राष्ट्रगान नहीं होता है और जब इस मामले की शिकायत प्रशासन से की गई तो मामले में फैसला करने का दबाव बनाया जा रहा है.

बेसिक शिक्षा अधिकारी सत्येंद्र कुमार ढाका ने जानकारी देते हुए बताया कि मामला जवां ब्लॉक से संबंधित है. क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी को जांच सौंपते हुए टीम गठित कर दी गई है. जांच के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी. वहीं, स्कूल प्रशासन ने भी बच्ची को हिंदी न पढ़ाये जाने की बात मानते हुए अपनी सफाई पेश की है.