भारत से सब्जियां आयात करने पर विचार कर रहे पाकिस्तान के सामने मुश्किलें खड़ी हो रही हैं। खबर है कि आतंकवाद का समर्थन बंद नहीं करने तक भारत पड़ोसी मुल्क के साथ व्यापार करने के मूड में नहीं है।

फिलहाल, पाकिस्तान में जनता भारी बाढ़ का सामना कर रही है, जिसके चलते देश में सब्जियों और अन्य खाद्य सामग्रियों के दाम काफी बढ़ गए हैं। कहा जा रहा था कि ऐसे में पाकिस्तान आपूर्ति के लिए भारत की ओर देख सकता है।

पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान लोगों को उबारने के लिए सब्जियों और अन्य चीजों को भारत से आयात कर सकता है।  पाकिस्तानी मंत्रियों को लेकर सवाल किया, जिन्हें भारत के साथ कारोबार का समर्थन करने के चलते पद छोड़ना पड़ा था। इसपर इस्माइल ने कहा, 'अगर महंगाई से खुद को बचाने के लिए लोगों को घर जाना पड़ता है, तो फिर ठीक है। मैं अर्थव्यवस्था को बेहतर करने के लिए काम कर रहा हूं। उम्मीद है कि मुझे निकाला नहीं जाएगा'

उन्होंने कहा कि फल और सब्जियां जैसी खाद्य सामग्रियों की सप्लाई बाढ़ से प्रभावित हो सकती है। मंत्री ने कहा, 'अगर सप्लाई प्रभावित होती है, तो सब्जियों के आयात को शुरू करना होगा। अगर हमें भारत से सब्जियां मंगानी पड़ी, तो हम ऐसा करेंगे।' साल 2019 में जम्मू और कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ कारोबारी रिश्ते निलंबित कर दिए थे।

खास बात है कि पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने भी अन्य देशों के साथ व्यापार और संपर्क बढ़ाने के पक्ष में बात की थी। इस दौरान उन्होंने विशेष रूप से भारत की बात की थी। हालांकि, विदेश मंत्रालय की तरफ से सफाई जारी की गई थी, जिसमें कहा गया कि भारत को लेकर पाकिस्तान की नीति में कोई बदलाव नहीं है।

भारत के तेवर भी सख्त
सूत्रों ने बताया, 'हमारे पास पाकिस्तान से भारत आए कम से कम 50 विदेशी आतंकियों की रिपोर्ट है और कई सीमा के पास बैठे हैं।' उन्होंने कहा, 'हम व्यापार पर बात करने के लिए तैयार हैं, लेकिन पाकिस्तान को तत्काल आतंकवाद को रोकना पड़ेगा।'