म्मू कश्मीर की शोपियां पुलिस ने लश्कर-ए-तैयबा के एक आतंकवादी को किया गिरफ्तार,  पुलिस ने बताया कि रविवार को आदिल गनी डार को गिरफ्तार किया गया है जो शोपियां में लश्कर का एक एक्टिव आतंकी है.

पुलिस ने बताया कि उसे शोपियां के मोहंदपोरा से गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने यह भी बताया कि आतंकी के पास से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किए गए हैं. यह गिरफ्तारी ऐसे समय में हुई है जब भारतीय सेना आतंकियों को पकड़ने के लिए एक अभियान चला रही है.

भारतीय सेना जम्मू कश्मीर में एक एंटी-टेरर ऑपरेशन चला रही है और इस अभियान के तहत सेना ने गुरुवार को बारामुल्ला से एक लश्कर के ही आतंकी को गिरफ्तार किया था. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस के साथ जॉइंट ऑपरेशन में इस आतंकी को गिरफ्तार किया गया था. मामले पर जानकारी देते हुए एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि एक आतंकी फरार है जिसकी तलाश की जा रही थी. इस दौरान सेना ने एक आतंकी को ढेर भी किया था, जिसने सर्च पार्टी पर हमला कर दिया था. इस घटना में सेना के एक जवान भी घायल हो गए थे, जिनकी अस्पताल में मौत हो गई.

जम्मू कश्मीर में बढ़ी आतंकी गतिविधियां

पुलिस प्रवक्ता के मुताबिक गिरफ्तार किए गए आतंकी का नाम निसार अहमद भट्ट है जो स्थानीय स्तर पर लश्कर के आतंकी गतिविधियों को अंजाम देता था. वहीं उस्मान नाम का एक पाकिस्तानी नागरिक फरार हो गया था. हाल के दिनों में जम्मू कश्मीर में आतंकी गतिविधियों में इजाफा हुआ है. हाल ही में युनाइटेड नेशन सिक्योरिटी काउंसिल के एंटी-टेरर कमेटी की भारत ने मेजबानी की थी. यूएनएससी पैनल को भारत ने बताया कि जम्मू कश्मीर में आतंकी गतिविधियां बढ़ी है.

पाकिस्तान को एफएटीएफ से निकाले जाने पर गौर करे यूएन

मुंबई में हुई यूएनएससी की एंटी-टेरर कमेटी की मीटिंग में गृह मंत्रालय के एक अधिकारी सफी रिज़्वी ने बताया कि 2018 के मध्य में जम्मू-कश्मीर में 600 टेररिस्ट कैंप थे, जो 2021 के मध्य में घटकर 150 हो गए थे. इसके बाद 2021 से सितंबर 2022 तक, आतंकी ठिकानों की संख्या तेजी से बढ़कर 225 हो गई है. पिछले दिनों एफएटीएफ ने आतंकी गतिविधियों में शामिल रहने, टेरर फंडिंग जैसे आरोपों से पाकिस्तान को मुक्त कर दिया था और पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट से आजाद कर दिया था. भारत ने यूएन पैनल को कहा कि इस मसले पर युनाटेड नेशन को गौर करना चाहिए.