बर्मिंगम में हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स के तीसरे दिन भारत को दूसरा गोल्ड मेडल मिला। भारत का यह वेटलिफ्टिंग में दूसरा गोल्ड है। इससे पहले मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए पहला गोल्ड मेडल जीता था। इसके साथ भारत में मेडल की संख्या 5 हो गई है। खास बात ये है कि कॉमनवेल्थ गेम में भारत को पांचों पदक वेटलिफ्टिंग में आए हैं। जेरेमी लालरिनुंगा ने वेटलिफ्टिंग में शानदार प्रदर्शन करते हुए गोल्ड मेडल जीता। उन्होंने स्नैच में 140 किलोग्राम वेट लिफ्ट किया। जबकि क्लीन एंड जर्क में 160 किलो भार उठाया। जेरेमी ने स्नैच में 140 किलो भार उठाकर रिकॉर्ड कायम कर दिया है. मेन्स के 67 किलो वर्ग के फाइनल में वाइपावा नेवो इओन दूसरे स्थान पर रहे।

मेन्स के 67 किलो वर्ग के फाइनल में जेरेमी को समोआ के वेटलिफ्टर वाइपावा नेवो इओन कड़ी टक्कर दे रहे थे, लेकिन अंत: जेरेमी ने बाजी मार ली. जेरेमी ने स्नैच के पहले प्रयास में 136 और दूसरे में 140 किलो भार उठाया। लेकिन वे तीसरे प्रयास में 143 किलो भार नहीं उठा सके। इसके बाद वे क्लीन एंड जर्क की तरफ बढ़े, इसमें उन्होंने पहले प्रयास में 154 और दूसरे में 160 किलो भार उठाकर मुकाबला जीत लिया। यह कॉमनवेल्थ गेम्स का एक रिकॉर्ड रहा।

इंग्लैंड के वेटलिफ्टर जसवंत सिंह शेरगिल चौथे नंबर पर रहे। उन्होंने स्नैच के पहले प्रयास में 110 और दूसरे में 114 किलो भार उठाया। जबकि क्लीन एंड जर्क में 140 और 146 किलो भार उठाया। श्रीलंकाई वेटलिफ्टर चतुरंगा जयसूर्या पांचवें स्थान पर रहे.