• रन ब्लू पहल के तहत पानी की कमी और जल संरक्षण की आवश्यकता के बारे में जागरूकता लाने के उद्देश्य से पूरी दुनिया में 200 मैराथन दौड़ रही हैं मीना गुली
  • रन ब्लू के लिए बेयर ने मीना गुली से की है साझेदारी
  • भारत के जी-20 शेरपा और नीति आयोग के पूर्व सीईओ श्री अमिताभ कांत ने इस पहल के तहत दिल्ली में आज भारत में होने जा रही पहली मैराथन दौड़ को हरी झंडी दिखाई

नई दिल्लीस्वास्थ्य सेवाओं और कृषि से संबंधित लाइफ साइंस के क्षेत्र में अग्रणी वैश्विक कंपनी बेयर ने रन ब्लू पहल के माध्यम से जल संरक्षण को लेकर जागरूकता लाने के लिए मैराथन धाविका एवं जल संरक्षण की पैरोकार मीना गुली से साझेदारी की है। इस पहल का उद्देश्य दुनियाभर में कंपनियों और लोगों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक करना, इसकी आवश्यकता को समझाना और इस दिशा में प्रयासों को गति देने के लिए साथ आने को प्रोत्साहित करना है। अनुमान है कि 2030 में कुल उपलब्ध जल की तुलना में इसकी मांग 40 प्रतिशत तक अधिक हो सकती है, इसे देखते हुए रन ब्लू पहल जल संकट से निपटने की दिशा में निजी क्षेत्र, सरकार, गैर सरकारी संगठनों एवं समाज को साथ लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

रन ब्लू पहल के तहत भारत में मैराथन की शुरुआत आज नई दिल्ली से हुई। इसके बाद वाराणसी, ठाणे और मुंबई जैसे अन्य शहरों में मैराथन का आयोजन होगा। प्रत्येक शहर में जल संरक्षण को लेकर जागरूकता लाने के लिए मीना गुली मैराथन दौड़ेंगी। नेहरू पार्क, नई दिल्ली से भारत के जी-20 शेरपा और नीति आयोग के पूर्व सीईओ श्री अमिताभ कांत ने मैराथन को हरी झंडी दिखाई।

भारत के जी-20 शेरपा एवं नीति आयोग के पूर्व सीईओ अमिताभ कांत ने इस मौके पर कहा, ‘जलवायु परिवर्तन से दुनियाभर के देशों पर व्यापक दुष्प्रभाव पड़ा है, विशेषतौर पर भारत जैसे विकासशील देशों पर। इसका प्रतिकूल प्रभाव कृषि, जल संसाधनों, जंगलों आदि पर स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। कई प्राकृतिक संसाधनों के तेजी से हो रहे क्षरण के साथ हमारे समक्ष चुनौतीपूर्ण भविष्य है। ऐसे में देशों के लिए यह जरूरी है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्धारित सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में साथ मिलकर काम करें। भारत लगातार सस्टेनेबिलिटी की दिशा में अपने राष्ट्रीय लक्ष्यों को पूरा कर रहा है और स्वच्छ जल तक लोगों की पहुंच बढ़ाने की दिशा में सरकार के प्रयासों के परिणाम दिख रहे हैं। लेकिन जल संरक्षण के लिए कंपनियों, सरकार और सिविल सोसायटी के बीच साझा प्रयास आवश्यक है। इस दिशा में रन ब्लू पहल कारगर हो सकती है। मैं जल संरक्षण पर केंद्रित रन ब्लू पहल से जुड़कर रोमांचित हूं। बेयर के समर्थन से संचालित रन ब्लू पहल लोगों को प्रेरित करेगी और बेहतर कल के लिए सामाजिक बदलाव को प्रोत्साहित करेगी।’

थर्स्ट फाउंडेशन की संस्थापक एवं सीईओ मीना गुली 22 मार्च, 2023 को न्यूयॉर्क में विश्व जल दिवस के मौके पर संयुक्त राष्ट्र के वाटर कॉन्फ्रेंस तक दुनियाभर में कुल 200 मैराथन दौड़ का लक्ष्य लेकर चल रही हैं। उन्होंने अब तक 151 दौड़ पूरी कर ली है और 8 जनवरी से दिल्ली में इंडिया चैप्टर की शुरुआत हुई है। दुनियाभर में इस दौड़ के माध्यम से रन ब्लू पहल का लक्ष्य ऐसा व्यवस्थागत बदलाव लाना है, जो हमारी पृथ्वी के लिए अच्छा हो।

भारत में दौड़ की शुरुआत करते हुए मीना गुली ने कहा, ‘पूरा विश्व पानी की कमी का सामना कर रहा है और 2 अरब से ज्यादा लोग ऐसे हैं, जिनके पास सुरक्षित पेयजल उपलब्ध नहीं है। भारत की जनसंख्या वैश्विक आबादी की करीब 18 प्रतिशत है, लेकिन यहां स्वच्छ पेयजल के मात्र 4 प्रतिशत स्रोत हैं। इसलिए जल का संरक्षण करना व समझदारी से इसका प्रयोग करना तथा जल प्रदान करने वाले स्रोत जैसे नदियों, झीलों और तालाबों को संरक्षित एवं रीस्टोर करना आवश्यक है। यदि हमने अभी कदम नहीं उठाया, तो हम सभी गंभीर जल संकट का सामना करेंगे। भारत के विभिन्न शहरों एवं गंगा किनारे अपनी दौड़ के माध्यम से मैं लोगों में जल संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने की उम्मीद कर रही हूं। साथ ही आशा है कि मैं कंपनियों, सरकारों और समाज को प्रेरित कर पाऊंगी कि इस बहुमूल्य संसाधन एवं स्वच्छ जल प्रदान करने वाले स्रोतों के संरक्षण के प्रति प्रतिबद्ध हों।’

वैश्विक जल संकट की समस्या के समाधान की दिशा में बेयर ने मीना गुली को कैंपेन पार्टनर के रूप में जोड़ा है। बेयर ने जल संरक्षण एवं सतत विकास की अपनी प्रतिबद्धता के अनुरूप ही कारोबारी गतिविधियों से संबंधित निर्णय किए हैं। एशिया में आईआरआरआई और डायरेक्ट सीडेड राइस के बीच गठजोड़ से अर्थव्यवस्था एवं पर्यावरणीय संरक्षण में सहयोग मिल रहा है। वापी विनिर्माण संयंत्र में बेयर ने वर्षा जल संचयन व्यवस्था व जीरो लिक्विड डिस्चार्ज वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाए हैं और ऐसा एक्शन प्लान लागू किया है, जिससे पानी की कुल खपत भी कम हो। बेहतर लाइफ फार्मिंग पहल के माध्यम से बेयर कृषि क्षेत्र में समान विचारधारा वाले सहयोगियों के साथ मिलकर बेहतर जल प्रबंधन एवं सस्टेनेबल इकोसिस्टम को बढ़ावा देने के लिए काम कर रही है।

a1

इस अवसर पर दक्षिण एशिया में बेयर फार्मास्युटिकल्स के एमडी मनोज सक्सेना ने कहा, ‘रन ब्लू के लिए मीना गुली के साथ बेयर की साझेदारी का फैसला जल संरक्षण समेत सस्टेनेबिलिटी की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता का ही परिणाम है। नागरिकों का स्वस्थ जीवन सुनिश्चित करने के लिए स्वच्छ जल तक पहुंच और स्वच्छता अहम हैं, विशेषरूप से महिलाओं के लिए, जो परिवार में जल की व्यवस्था करने के लिए प्राथमिक तौर पर जिम्मेदार की भूमिका में होती हैं। इसी तरह कृषि में भूजल का अत्यधिक दोहन भी कई राज्यों में जलस्तर के बहुत नीचे पहुंच जाने का कारण बन गया है। कृषि और स्वास्थ्य क्षेत्र में वैश्विक स्तर पर अग्रणी कंपनी होने के नाते बेयर का लक्ष्य ऐसी इनोवेशन एवं टेक्नोलॉजी को आगे बढ़ाना है, जिससे पानी के बेहतर प्रयोग का रास्ता खुले और इसके संरक्षण को बढ़ावा मिले।’

जल संरक्षण वर्तमान समय में राष्ट्रीय प्राथमिकता बना हुआ है और देश में पानी की कमी से निपटने के लिए कई पहल शुरू की गई हैं। जल जीवन मिशन, नमामी गंगे, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान, जल शक्ति अभियान व अन्य जैसी कई पहल केंद्र एवं राज्य के स्तर पर की गई हैं, जिनका लक्ष्य बेहतर पारिस्थितिकी का निर्माण करना और पानी के पर्यावरण के अनुकूल प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए लंबी अवधि के समाधान प्रदान करना है। रन ब्लू पहल के तहत जल संरक्षण की बेयर की प्रतिबद्धता स्वच्छ जल तक पहुंच बढ़ाने, जल संसाधनों को संरक्षित करने और नदियों को साफ करने के राष्ट्रीय प्रयासों के अनुरूप ही है।