इन दिनों किडनी स्टोन की परेशानी युवाओं में सबसे ज्यादा देखी जा रही है. कम उम्र में ही लोगों को किडनी स्टोन समेत कई बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है. किडनी स्टोन की कई वजह होती हैं, लेकिन कुछ लोगों को यह परेशानी यूरिक एसिड बढ़ने से हो जाती है.

यूरिक एसिड ( uric acid) बढ़ने पर किडनी से संबंधित कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं. अब सवाल उठता है कि क्या हाई यूरिक एसिड से जूझ रहे लोगों को किडनी स्टोन का खतरा है? इस बारे में डॉक्टर से जरूरी बातें जान लेते हैं.

क्या कहते हैं डॉक्टर?
नई दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल के यूरोलॉजी डिपार्टमेंट के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. अमरेंद्र पाठक कहते हैं कि यूरिक एसिड ज्यादा बढ़ने पर यह शरीर के छोटे जॉइंट्स में जमा हो जाता है और अधिकतर मरीजों को गाउट (Gout) की समस्या हो जाती हैं. गाउट एक तरह का आर्थराइटिस है, जिससे हाथ और पैरों के छोटे जॉइंट में तेज दर्द होता है. यूरिक एसिड अगर ज्यादा बढ़ जाए तो यह किडनी फेलियर की वजह बन सकता है. अगर किडनी स्टोन की बात करें तो यूरिक एसिड बढ़ने वाले करीब 5 से 10 प्रतिशत लोगों को ही किडनी स्टोन की समस्या होती है. ऐसे में यूरिक एसिड को किडनी स्टोन की सबसे बड़ी वजह नहीं माना जा सकता. आपको किडनी स्टोन है, तो तुरंत विशेषज्ञ से संपर्क करें.

किन मामलों में हो सकता है किडनी फेलियर?
डॉ. अमरेंद्र पाठक के मुताबिक अगर यूरिक एसिड हद से ज्यादा बढ़ जाए और मरीज को सही समय पर इलाज ना मिले तो ऐसी कंडीशन में किडनी फेलियर का खतरा बढ़ जाता है. इसके अलावा जो लोग पहले से किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं उनके लिए भी यूरिक एसिड बनना खतरे का संकेत हो सकता है. हालांकि यह कोई लाइलाज बीमारी नहीं है और इसे दवाइयों के जरिए आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है. यह समस्या इलाज के जरिए पूरी तरह से खत्म की जा सकती है.

नेचुरल तरीकों से ऐसे कंट्रोल करें यूरिक एसिड
डॉक्टर के अनुसार यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए आपको नॉन वेज का सेवन तुरंत बंद कर देना चाहिए और हर दिन करीब 30 मिनट एक्सरसाइज करनी चाहिए. दालों का ज्यादा सेवन करना भी नुकसानदायक माना जाता है. ज्यादा से ज्यादा पानी पीना यूरिक एसिड को कंट्रोल करने का एक आसान तरीका है. यूरिक एसिड की दवा अगर आप समय से लेंगे तो इस परेशानी को हमेशा के लिए खत्म कर सकते हैं.