New Delhi: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल जीत कर देश का मान बढ़ाने वाले सात खिलाड़ियों को शुक्रवार को प्रोत्साहन राशि का चेक देकर सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यहाँ एक समारोह में मेडल विजेता रवि दहिया, पिंकी, नवनीत सिंह, तूलिका मान, तेजस्विनी शंकर, पूजा गहलोत और रोहित टोकस में 2.60 करोड़ रुपए की प्रोत्साहन राशि का चेक वितरित किया। इस मौके पर उन्हाेंने कहा , "धीरे-धीरे दिल्ली खेल के क्षेत्र में देश के नक्शे पर आने लगी है।

देश को कॉमनवेल्थ गेम्स में 61 मेडल मिले, जिसमें से दिल्ली के खिलाड़ियों ने 7 मेडल जीते। दिल्ली में हमने खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए प्ले एंड प्रोग्रेस, मिशन एक्सीलेंस और कैश इंसेंटिव स्कीम शुरू की, ताकि उनको पैसे की दिक्कत न हो।"

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा , " आज बहुत गर्व का दिन है कि हम अपने खिलाड़ियों को सम्मानित कर रहे हैं। इन खिलाड़ियों ने न सिर्फ दिल्ली, बल्कि पूरे देश का नाम रौशन किया है। देश को इनके ऊपर गर्व है। एक-एक खिलाड़ी जब खेल की दुनिया में मेडल जीतकर लाता है, तो उसके पीछे कई लोगों का संघर्ष होता है। उनके पीछे उनके परिवार, उनके कोच और साथियों का संघर्ष होता है।

जनसंख्या के हिसाब से देखा जाए तो दिल्ली में दो करोड़ की आबादी है। जबकि देश में कुल 130 करोड़ की आबादी है। इस प्रकार दिल्ली में देश की 2 फीसद से भी कम आबादी रहती है, लेकिन हम देश के लिए 10 फीसद से ज्यादा मेडल लेकर आए।"

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कॉमनवेल्थ गेम्स में जिन खिलाड़ियों ने देश के लिए मेडल जीते थे, उन सभी खिलाड़ियों को आज हम लोगों ने सम्मानित किया। उन लोगों को हम हमने सम्मान राशि दिए। खेलों के बुनियादी ढांचे को बहुत अच्छा किया हैं। अलग-अलग स्कूलों में खेल रहे बच्चों और संघर्ष कर रहे खिलाड़ियों को को प्रोत्साहन और मदद देने के लिए हम लोगों ने कई सारी स्कीम निकाली है।

हम सघर्ष कर रहे खिलाड़ियों को कैश देकर उनके आहार और प्रशिक्षण में मदद करते हैं। उसके नतीजे भी आने लगे हैं। दिल्ली में दो करोड़ लोग रहते हैं। दिल्ली में देश की 2 फीसद से भी कम आबादी है। लेकिन कॉमनवेल्थ गेम्स में दिल्ली ने 10 फीसद से भी ज्यादा अवार्ड जीता है।

उपमुख्यमंत्री एवं खेल मंत्री मनीष सिसोदिया ने कॉमनवेल्थ गेम्स में विजेता खिलाडियों का हौसला अफजाई करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली के अंदर खेल की सुविधाएं बढाने और खिलाडियों का मनोबल बढ़ाने पर बहुत अच्छा काम हुआ है। हमें खुशी और गर्व है कि दिल्ली के पास भी एक से बढ़कर एक खिलाड़ी हैं, जो पूरे विश्व में दिल्ली और देश को गौरवांवित कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब खिलाड़ी अपनी पहचान के लिए मेहनत कर रहा होता है और खुद को निखार रहा होता है, तब उसे मदद की जरुरत होती है। इसे ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ने दो महतवपूर्ण योजनाएं 'प्ले एंड प्रोग्रेस' और 'मिशन एक्सीलेंस' की शुरुआत करवाई।

इस योजना के तहत 17 साल से कम उम्र के खिलाड़ियों को 2 से 3 लाख रुपए की सहायता राशि दी जाती है और उनसे उपर के खिलाडियों को 16 लाख तक की सहायता राशि दी जाती है। उन्होंने ने कहा कि मेडल जीतने के बाद तो सभी खिलाड़ियों को पुरस्कृत करते हैं, लेकिन दिल्ली सरकार खिलाडियों की उस समय भी मदद करती है, जब वे अपनी पहचान बनाने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे होते हैं।