विधानसभा में केंद्र सरकार पर बरसे उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया कहा  '1000 रेड कर लो, कुछ नहीं मिलेगा.

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, 'सीबीआई की FIR पूरी तरह से फर्जी है. धूल में लट्ठ मारना है, तो लिख दो सॉर्स, सॉर्स के ऊपर FIR है. ऐसा पहली बार हुआ है. CBI ने घर का कोना कोना छाना, बेडरूम से लेकर बच्चों, परिवार मेरे कपड़े, सब देखा. लेकिन कहीं कुछ नहीं मिला. 14 घण्टे तक रेड हुई, लेकिन एक पैसे की बेईमानी का सबूत नहीं मिला. मेरे सचिवालय दफ्तर में भी रेड हुई, कुछ सरकारी फाइलें, कम्प्यूटर, मोबाइल ले गए.' उन्होंने कहा, 'आज सदन के समक्ष रेड की कहानी बताने नहीं आया हूं. हजारों रेड कर लो, कुछ नहीं मिलेगा. दिल्ली के एजुकेशन को आगे बढाने का काम बिल्कुल किया है, वो अगर बेईमानी है, तो जो सजा दे दो.'

चुनी हुई सरकारों को हटाने में मेहनत लगा रहे सीरियल किलर- सिसोदिया

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आगे कहा, 'अभी तक 75 साल में यह होता है कि कोई अच्छा काम करे, तो सीबीआई लेकर आ जाओ. 7 साल के एक्सपीरियंस के आधार पर कह रहा हूं. एक सीरियल किलर की तरह चुनी हुई सरकारों को हटाने में जितनी मेहनत लगाते हो, उतने से कम में अच्छे स्कूल और अस्पताल बन जाते हैं.' उन्होंने कहा, 'पहले टेंट और टिन छप्पर वाले स्कूल हुआ करत्ते थे. हमने 700 नई स्कूल बिल्डिंग बनाई है. आज टेंट वाले स्कूल को लोग कहते हैं. स्विमिंग पूल वाला स्कूल. 19 हजार नए टीचर भर्ती किए हैं. लेकिन इसके जवाब में मोदी जी फर्जी FIR लिखवा रहे हैं.'

कोई अच्छा काम करे, उसे रोक दो, केंद्र का यही काम- उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया 

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, 'आज अगर अरविंद केजरीवाल देश के प्रधानमंत्री होते और मैं किसी और पार्टी से कहीं और का शिक्षा मंत्री होता, तो अरविंद केजरीवाल ऐसा नहीं करते, वे गले लगाते. कोई अच्छा काम करे, उसे रोक दो, उसकी सरकार गिरा दो, यह बताता है कि सोच कितनी छोटी है. इतना इनशेक्योर आदमी पहले कभी नहीं देखा. आज भारत में एक बच्चे को औसतन 6 साल की शिक्षा मिलती है, बांग्लादेश में भी इतना ही है. पाकिस्तान में 5 साल है, तो उससे खुश हो सकते हैं. अमेरिका ब्रिटेन में यह 13 साल है.'