मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपनी राजनीतिक सफर को लेकर बड़ा बयान दिया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व.

अर्जुन सिंह की जयंती पर आयोजित मुशायरा में उनका स्मरण करते हुए उन्हें नमन करते हुए मन की बात कही है। उन्होंने कहा कि वे राजनीति में नहीं आना चाहते थे। उस समय उनकी दिलचस्पी राजनीति में नहीं थी। वो छिंदवाड़ा से सांसद का चुनाव नहीं लड़ना चाहते थे।

पूर्व सीएम ने कहा कि संजय गांधी ने अर्जुन सिंह से संदेश पहुंचवाया था। संदेश में चुनाव लड़ने के लिए कहा गया था। उन्होंने कहा कि मैं एक बार अर्जुन सिंह की बात टाल देता हूं, लेकिन उनकी धर्मपत्नी की बात नहीं टाल पाया। इस तरीके से मेरा चुनाव लड़ने का फैसला हुआ।

कमलनाथ ने कहा कि मैंने अर्जुन सिंह से सीखा कि अफसरों को कैसे डील करना है। कमलनाथ ने अपने ट्वीट के माध्यम से कहा कि, कुशल संगठक, ग़रीब, शोषित, किसान और सर्वहारा वर्ग के हितैषी, मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय अर्जुन सिंह की जयंती पर शत् शत् नमन। मेरे लिये राजनीति में वे सदैव प्रेरणादायी रहे हैं। वे सिर्फ एक राजनीतिक व्यक्तित्व ही नहीं, अपितु सच्चे समाजसेवक भी थे। प्रदेश हित में किये गये उनके कार्य सदैव अविस्मरणीय है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अर्जुन सिंह की जयंती पर कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने ट्वीट कर लिखा- कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पूर्व केन्द्रीय मंत्री, पूर्व राज्यपाल एवं मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री स्व.श्री अर्जुन सिंह जी(दाऊ साहब) जी की जयंती पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि, देश एवं प्रदेश की राजनीति का इतिहास और वर्तमान स्व. श्री अर्जुन सिंह जी के बिना सदैव अपूर्ण रहेगा .

5 नवंबर 1930 में हुआ था अर्जुन सिंह का जन्म

बता दें कि अर्जुन सिंह का जन्म 5 नवंबर 1930 को हुआ था। 4 मार्च 2011 अर्जुन सिंह को इस दुनिया को अलविदा कह दिए थे। बता दें कि वे राज्य के मुख्यमंत्री रहने के साथ ही पंजाब के राज्यपाल और केंद्र सरकार में मंत्री रहे थे।