संवाददाता अमित कुमार गुप्ता 

Chhindwara: मध्य प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बेशक कई कदम उठाए गए हों, लेकिन आज भी ऐसे मामले सामने आते हैं जिन्हें देखने के बाद कहा जा सकता है कि आज भी बेटियां सुरक्षित नहीं है. ताजा मामला मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से आया है.

एक नाबालिग आदिवासी युवती के साथ 24 घंटे के भीतर दो बार रेप के शिकार होने की सनसनीखेज वारदात सामने आई है,फिलहाल पुलिस ने दो अलग अलग मामलों में तीन आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए जेल भेजने की कार्यवाही की है.

दरअसल, छिंदवाड़ा के उमरेठ थाना अंतर्गत रहने वाली 14 साल की नाबालिग युवती अपने एक साथी साहिल भलावी के साथ 31 दिसंबर की रात पास के ही जमुनिया जेठू गांव में आयोजित कबड्डी प्रतियोगिता देखने गई थी,प्रतियोगिता देखने के बाद जब नाबालिग पीड़िता साहिल के साथ बाइक पर वापस आ रही थी, तभी रास्ते मे साहिल की नीयत बिगड़ गई और उसने महावीर ढाना गांव के पास निर्माणाधीन मकान में नाबालिग को अपनी हवस का शिकार बनाया. इसके बाद नाबालिग को वहीं छोडक़र मौके से फरार हो गया.

इस दौरान डरी सहमी नाबालिग पीड़िता वहां से निकली और रास्ते मे ही एक पुलिया के नीचे रातभर बैठी रही. दूसरे दिन 1 जनवरी को पीड़िता ने अपने पहले के परिचित जितेंद्र टांडेकर नाम के युवक को अपनी मदद के लिए बुलाया, लेकिन जितेंद्र खुद अकेले न जाते हुए अरुण पवार नाम के युवक को भी अपने साथ ले गया, जिसके बाद नाबालिग ने दोनों के साथ विश्वास करते हुए चली गई,लेकिन दोनों ने नाबालिग के साथ विश्वासघात करते हुए कुछ दूरी पर ही खेत में नाबालिग को ले जाकर शाम के समय झोपड़ीनुमा घर में बारी बारी से उसके साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया.

इस घटना के बाद से दोनों मौके से भाग गए,पहले रेप और फिर गैंगरेप का शिकार हो चुकी नाबालिग जैसे-तैसे अपनी एक सहेली के घर पहुंची और फिर वहां परिजनों को बुलाकर आपबीती सुनाते हुए परिजनों के साथ उमरेठ थाना पहुंचकर आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई. इस मामले में उमरेठ थाना प्रभारी खेलचंद पटेल ने बताया कि नाबालिग पीड़िता की शिकायत और जांच के बाद तीनों आरोपियों के खिलाफ गैंगरेप,पॉक्सो एक्ट सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्यवाही की गई है.

एसपी संजीव उइके ने मामले में जानकारी देते हुए बताया कि नाबालिग आरोपी से पूर्व परिचित थी,फोन और सोशल मीडिया के जरिए बातचीत भी होती रहती थी. इसीलिए नाबालिग भरोसा करते हुए साहिल के साथ चली गई थी,इसी तरह जितेंद्र टांडेकर भी नाबालिग से पहले का परिचित था,फिलहाल पुलिस ने तीनो आरोपियों को गिरफ्तार कर आगे की कार्यवाही में जुटी हुई है.