बैरसिया: मंगलवार को मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैरसिया विधानसभा के ग्राम पातलपुर-करारिया मैं औद्योगिक पार्क का भूमि पूजन करने पहुंचे तो जिला पंचायत सदस्य संगठन के प्रदेश संयोजक विनय मेहर अपने दल के साथ क्षेत्र के विकास एवं मांगो का सूचीबद्ध ज्ञापन लेकर मुख्यमंत्री के समक्ष जा पहुंचे मुख्यमंत्री से बातचीत करते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री निवास पर बार-बार जिला पंचायत सदस्यों द्वारा समय मांगने का हवाला भी दिया जिस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ऐसा नहीं होता कि कोई कहे हम इतने इकट्ठे हो गए हैं तो हमसे मिलो जिस पर जवाब देते हुए मेहर ने कहा की हम जिला पंचायत सदस्यों द्वारा विधिवत रूप से मुख्यमंत्री आवास पर आपसे मुलाकात का समय मांगा जा रहा है किंतु हमें समय नहीं दिया जा रहा है जिस पर शिवराज ने कहा मैं समय देता हूं ज्ञातव हो कि जिला पंचायत सदस्य निरंतर क्षेत्र के विकास एवं मांगों को लेकर जिला पंचायत बैठकों से लेकर भूमिगत संघर्षरत रहते हैं।

"विनय मेहर ने ज्ञापन में रखी बिंदुवार मुख्य मांगे"

नहर एवं डूब मुआवजा-
संजय सागर बांध परियोजना मे नहर का पानी मिलने से वंचित रहे ग्राम सोहाया,दोहाया, मानपुर,हिंगोनी,परसोरिया,लहारपुर सहित अनेकों गांवो मैं नहर का पानी उपलब्ध कराया जाए साथ ही डूब क्षेत्र मैं आए गांवों कढ़ैया शाह, तरावली खुर्द सहित अनेकों गांवों के लोगों को डूब का मुआवजा अभी तक नहीं मिला है जिसको तत्काल रुप से दिलाया जाए

मनरेगा मजदूरी-
अभी मनरेगा में मजदूरों को प्रतिदिन ₹204 मिलते हैं जिसको बढ़ाकर ₹500 प्रतिदिन किया जाए

बिजोरी समुदाय-
जिला पंचायत सदस्य ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि उनके क्षेत्र में बिजोरी समुदाय रहता है जिसको किसी भी जाति में दर्ज नहीं किया गया है जिस कारण से उनको शासन प्रशासन की योजनाओं से वंचित रहना पड़ता है तो उन्हें तत्काल रुप से किसी जाति में दर्ज किया जाए क्योंकि बिजोरी समुदाय आर्थिक रूप से बहुत कमजोर होता है और मुख्यधारा से बहुत दूर है।