Tripura: त्रिपुरा के वरिष्ठ मंत्री और भाजपा की सत्तारूढ़ सहयोगी आईपीएफटी के संस्थापक-अध्यक्ष एनसी देबबर्मा का रविवार को निधन हो गया। इसकी वजह सेरिब्रल स्ट्रोक बताई जा रही है।

वह 80 वर्ष के थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी, चार बेटे और तीन बेटियां हैं।  प्रवक्ता अमित देबबर्मा ने बताया कि राज्य के राजस्व व वन मंत्री की हालत पिछले कुछ महीनों से ठीक नहीं थी। वह मधुमेह से भी पीड़ित थे।

प्रवक्ता ने बताया कि उन्हें शनिवार को मस्तिष्काघात हुआ था। उन्हें यहां एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी सर्जरी हुई। रविवार अपराह्न 2.45 बजे उनका निधन हो गया। ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर), अगरतला के निदेशक के रूप में अपनी सेवानिवृत्ति के बाद देबबर्मा ने 2009 में आईपीएफटी की स्थापना की थी। उन्होंने 2018 के विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा के साथ गठबंधन किया था।

आईपीएफटी ने उनके नेतृत्व में पिछले विधानसभा चुनाव में अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित नौ में से आठ सीट पर जीत हासिल की थी। मेवार कुमार जमातिया के साथ एनसी देबबर्मा को बिप्लब कुमार देब के मंत्रिमंडल में शामिल किया गया। मुख्यमंत्री माणिक साहा ने एनसी देबबर्मा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।