यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 के बीच गुजरात के निवेशक उत्तर प्रदेश में विभिन्न परियोजनाओं में निवेश करने के लिए सहमत हुए हैं. इसके लिए उन्होंने अहमदाबाद में आयोजित बी2जी बैठकों और रोड शो के दौरान 38,000 करोड़ रुपए के समझौता ज्ञापन (MOU) पर हस्ताक्षर किए.

बातचीत और बिजनेस-टू-गवर्नमेंट मीटिंग्स के दौरान, टोरेंट, अडानी, अरविंद टेक्सटाइल्स और ज़ाइडस लाइफ साइंसेज जैसे गुजरात स्थित समूहों ने यूपी के अधिकारियों के साथ समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए. इस दौरान ऊर्जा और शहरी विकास मंत्री ए.के. शर्मा, गुजरात कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी, प्रतिनिधिमंडल में मंत्री जितिन प्रसाद, मुख्यमंत्री के सलाहकार अवनीश अवस्थी, अतिरिक्त मुख्य सचिव नवनीत सहगल और अन्य शामिल थे.

फार्मास्युटिकल और ऊर्जा व्यवसायों में लगे अहमदाबाद स्थित टोरेंट ग्रुप ने विभिन्न व्यावसायिक कार्यक्षेत्रों में 25,000 करोड़ रुपये के निवेश के लिए सहमति व्यक्त की है. उल्लेखनीय है कि टोरेंट पहले से ही यूपी में मौजूद है, और आगरा में बिजली का वितरण कर रही है और मथुरा और गोरखपुर में गैस की आपूर्ति कर रही है. डेयरी प्रमुख अमूल ने पश्चिमी यूपी के बागपत में एक डेयरी संयंत्र स्थापित करने के अवसर का पता लगाने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए.

दिलचस्प बात यह है कि जब ए.के. शर्मा तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के सचिव थे, तब उन्होंने में गुजरात में एक नौकरशाह के रूप में 2003 से 2013 तक राज्य में वाइब्रेंट गुजरात समिट के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. वहीं यूपी में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 के जरिए 10 लाख करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य रखा गया है.

दरअसल, उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए दुनिया भर के उद्यमियों, कंपनियों और संस्थाओं को आमंत्रित करने के लिए वैश्विक भ्रमण पर गई 'टीम यूपी' अभूतपूर्व सफलता के साथ प्रदेश लौटी है. 10 से 12 फरवरी, 2023 को लखनऊ में प्रस्तावित 'यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट' से पूर्व 16 देशों के 21 शहरों में आयोजित इन्वेस्टर्स रोड शो में हर जगह उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए उद्यमियों में असीम उत्साह देखने को मिला.