श्रावणी माह के पहली सोमवारी (18 जुलाई, 2022) को देवघर का बाबा मंदिर कांवरियों से पट गया. बोल बम के नारे से गूंजयामान क्षेत्र में हर तरफ कांवरियां ही कांवरियां नजर आ रहे हैं. बाबाधाम परिसर में कांवरियों की इतनी भीड़ है कि तिल रखने की जगह तक नहीं है. सुरक्षा और सुविधा के लिहाज से जिला प्रशासन पहले से ही मुस्तैद है. पहली सोमवारी को करीब दो लाख कांवरियों के आने का अनुमान है.

कांवरिया पथ पर फव्वारे की व्यवस्था

श्रावणी मेला के प्रथम सोमवारी में गर्मी को देखते हुए नगर निगम की टीम पानी के फव्वारे से कांवरिया पथ को नमी कर रहे थे. बारिश नहीं होने के कारण बाबानगरी में काफी गर्मी है. इस दौरान कांवरियों को राहत देने के लिए कांवरिया पथ पर फव्वारे छोड़ उन्हें राहत पहुंचाने की कोशिश की जा रही है.

रविवार की देर शाम से कांवरियों की लगने लगी थी कतार

बाबा बैद्यनाथ पर जलार्पण के लिए कांवरियों की कतार रविवार की देर शाम से ही लगने लगी थी. कांवरियों को सुलभ जलार्पण कराने के लिए जिला प्रशासन ने बाबा मंदिर की सुरक्षा और जलार्पण की व्यवस्था की कमान CRPF और रैपिड एक्शन फोर्स के हवाले कर दिया है. बता दें कि पूरे मेला क्षेत्र में 11 हजार फोर्स की तैनाती हुई है.

सुबह 4 बजे से जलार्पण शुरू

वहीं, रविवार को एक लाख से अधिक कांवरियों ने जलार्पण किया. इस दौरान 2827 कांवरियों ने शीघ्रदर्शनम कूपन के माध्यम से जलार्पण किया. दूसरी ओर, सोमवार को पट खुलने के बाद ही बाबा भोलेनाथ की पारंपरिक पूजा संपन्न कर सुबह 4 बजे से कांवरियों के लिए जलार्पण शुरू किया गया. पहली सोमवारी को देखते हुए जिला प्रशासन ने बाबा मंदिर से 12 किलोमीटर दूर कुमैठा स्टेडियम तक कांवरियों को कतारबद्ध करने के लिए रास्ते में जगह-जगह पंडाल सहित हर तरह की सुविधा को दुरुस्त करने की व्यवस्था की गयी है