श्रद्धा मर्डर केस में श्रद्धा के पिता विकास वाकर ने कहा कि मुझे लव जिहाद कोण पर संदेह था. हम आफताब के लिए मौत की सजा की मांग करते हैं. मुझे दिल्ली पुलिस पर भरोसा है और जांच सही दिशा में आगे बढ़ रही है.

महाराष्ट्र की लड़की श्रद्धा वाकर जिसकी हत्या कथित तौर पर दिल्ली में रहने वाले उसके लिव-इन पार्टनर आफताब ने की. इस मामले में आरोपी आफताब पर अब 'लव जिहाद' के आरोप लग रहे हैं. श्रद्धा के पिता, विकास वाकर ने कहा कि मुझे लव जिहाद कोण पर संदेह था. हम आफताब के लिए मौत की सजा की मांग करते हैं. मुझे दिल्ली पुलिस पर भरोसा है और जांच सही दिशा में आगे बढ़ रही है. श्रद्धा अपने चाचा के करीब थी वह मुझसे ज्यादा बात नहीं करती थी.

उन्होंने कहा कि मैं आफताब के संपर्क में कभी नहीं था. मैंने मुंबई के वसई में पहली शिकायत दर्ज कराई थी. श्रद्धा के पिता विकास मदन वॉकर ने बताया कि श्रद्धा और आफताब के रिलेशनशिप के बारे में परिवार को 18 महीने बाद पता चला. श्रद्धा ने अपनी मां से साल 2019 में कहा था कि वो आफताब के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में है. इसका मैंने और मेरी पत्नी ने विरोध किया था. तब श्रद्धा नाराज हो गई और उसने कहा कि मैं 25 साल की हो गई हूं.

मुझे अपने फैसले लेने का पूरा हक है. मुझे आफताब के साथ लिव-इन में रहना है. मैं आज से आपकी बेटी नहीं. यह कहकर वो घर से जाने लगी, तो मेरी पत्नी ने काफी मिन्नतें की. मगर, वो नहीं मानी और आफताब के साथ चली गई. हमें उसके दोस्तों से ही उनकी जानकारी मिल पाती थी. कुछ दिन बाद उसकी मां गुजर गई. मां की मौत के बाद श्रद्धा ने मुझसे एक-दो बार बातचीत की थी. तब उसने बताया था कि आफताब के साथ उसके रिश्ते में कड़वाहट आ गई है.

उस दौरान वह एक बार घर भी आई और बताया कि आफताब उसके साथ मारपीट करता है. तब मैंने उसे वापस घर आने को कहा था. मगर, आफताब के मनाने पर वह उसके साथ चली गई. उन्होंने कहा कि अगर बेटी बात मान लेती तो आज जिंदा होती. अफसोस है कि बेटी ने प्यार में जिद के चलते उनकी बात नहीं मानी. 26 साल की श्रद्धा मुंबई के मलाड की रहने वाली थी. यहां वह एक मल्टीनेशनल कंपनी के कॉल सेंटर में काम करती थी.

आफताब अमीन फूड ब्लॉगर है. इंस्टाग्राम पर उसका पर्सनल अकाउंट द हंगरी छोकरो (thehungrychokro) के नाम से है, जबकि उसका फूड ब्लॉग इंस्टाग्राम पर द हंगरी छोकरो_एस्कैपेड्स (thehungrychokro_escapades) नाम से है. आफताब ने पर्सनल ब्लॉग पर आखिरी फोटो 3 मार्च 2019 को पोस्ट किया था. अपने फूड ब्लॉग से उसने आखिरी फोटो 2 फरवरी को पोस्ट किया था.

2019 में रिलेशनशिप शुरू हुआ, 2022 में दिल्ली शिफ्ट हुए: पुलिस सूत्रों के मुताबिक, 2022 में दिल्ली शिफ्ट होने से पहले ये कपल 2019 में रिलेशनशिप में आया था. ये कुछ समय के लिए महाराष्ट्र में रहे, लेकिन अपनी यात्रा की योजना के तहत कई जगहों पर जाते थे. पुलिस के मुताबिक मार्च-अप्रैल में वे हिल स्टेशन गए थे. दोनों मई में कुछ दिनों के लिए हिमाचल प्रदेश गए थे और साथ में रुके थे, जहां उनकी मुलाकात दिल्ली के छतरपुर में रहने वाले एक शख्स से हुई.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली शिफ्ट होने के बाद, वे शुरुआत में उसी शख्स के फ्लैट पर रुके थे, जिससे वे हिमाचल में मिले थ.। हालांकि, रहने से उनके बीच की स्थिति नहीं बदली. बाद में आफताब ने छतरपुर में एक फ्लैट किराए पर लिया जहां वह श्रद्धा के साथ रहने लगा. 18 मई को छतरपुर के फ्लैट में कथित तौर पर उसकी गला दबाकर हत्या कर दी गई थी. पुलिस को पता चला है कि हत्या के कुछ दिन पहले कमरा किराए पर लिया गया था.

जांच का विषय है कि क्या आफताब ने पहले ही उसकी हत्या की साजिश रची थी : पुलिस सूत्रों ने कहा कि यह भी जांच का विषय है कि क्या आफताब ने पहले ही उसकी हत्या की साजिश रची थी. आरोपी ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि इस समय लोगों की आवाजाही कम होने के कारण वह रात 2:00 बजे शव के टुकड़ों को ठिकाने लगाने के लिए ले जाता था. पुलिस को पता चला है कि आरोपी आफताब ने ग्रेजुएशन किया है और परिवार के साथ मुंबई में रहता है.

आफताब के सोशल मीडिया को देखने से पता चलता है कि उसने कुछ समय के लिए फूड ब्लॉगिंग भी की थी, हालांकि लंबे समय से उसकी ब्लॉगिंग के बारे में कोई वीडियो नहीं आया था. उसकी आखिरी पोस्ट फरवरी के महीने में आई थी, जिसके बाद कोई गतिविधि नहीं हुई प्रोफाइल पर। उनके इंस्टाग्राम पर 28,000 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. पुलिस के मुताबिक कुछ समय पहले तक श्रद्धा और आफताब दोनों कॉल सेंटर में काम करते थे.

सबूत मिटाने के लिए अमेरिकी क्राइम शो डेक्स्टर समेत कई क्राइम मूवीज और शोज देखे : मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पता चला है कि हत्या के बाद आफताब शाम 6-7 बजे तक घर आ जाता था और फिर वहां फ्रिज में रखे शव के टुकड़ों को डिस्पोजल के लिए ले जाता था. एक काली पन्नी थी लेकिन टुकड़ों को जंगल में पन्नी से बाहर फेंक दिया था, जिससे यह पता लगाना मुश्किल हो गया था कि क्या टुकड़े फेंके गए थे या अवशेष जानवरों के शिकार के कारण थे. पुलिस सूत्रों के मुताबिक,आफताब ने वारदात से पहले अमेरिकी क्राइम शो डेक्स्टर समेत कई क्राइम मूवीज और शोज देखे थे.

आफताब ने सबूत मिटाने के लिए गूगल पर खून साफ करने का तरीका भी ढूंढा था. इसके बाद ही उसने श्रद्धा का मर्डर किया और आरी से काटकर उसकी बॉडी के 35 टुकड़े किए. वह फ्रिज खरीदकर लाया. बदबू दबाने के लिए अगरबत्ती जलाता था. 18 दिन तक रोज रात 2 बजे जंगल में श्रद्धा के टुकड़े फेंके.