दौसा के मेंहदीपुर बालाजी नेशनल हाईवे पर सोमवार की देर रात भीषण सड़क हादसा हो गया. एक अनियंत्रित ट्रक ने रोड किनारे चल रहे कांवड़ियों के कैंटर को टक्कर मार दी. हादसे में 40 से अधिक कांवड़िया घायल हो गए.

जानकारी के अनुसार दौसा के मेंहदीपुर बालाजी से कांवड़ियों का एक जत्था शनिवार को कांवड़ लेने के लिए पुष्कर गया था, जो सोमवार को पुष्कर से कांवड़ लेकर वापस अपने गांव गाजीपुर आ रहा था. इस दौरान मेहंदीपुर बालाजी थाना क्षेत्र के नेशनल हाईवे पर स्थित ठीकरिया चौराहे के समीप सोमवार रात 12 बजे स्पीड में आ रहे एक अनियंत्रित ट्रक ने रोड किनारे चल रहे कांवड़ियों के कैंटर को टक्कर मार दी. टक्कर इतनी जबरदस्त थी की पीछे से टक्कर मारने वाले ट्रक का आगे का हिस्सा रोड किनारे चल रहे कांवड़ियों के कैंटर की बॉडी में ही अटक गया. इस दौरान पीछे से आ रहा अनियंत्रित ट्रक कांवड़ियों के कैंटर को टक्कर मारकर करीब 300 मीटर आगे जाकर एक पेट्रोल पंप के पास मिट्टी में धसकर रुक गया. वहीं, कांवड़ियों का ट्रक रोड किनारे पलट गया, जिससे कैंटर में सवार सभी कांवड़ियों में चीख-पुकार मच गई. घटनास्थल के पास मौजूद सैंकड़ों की संख्या में ग्रामीण घटना स्थल की ओर दौड़े और कैंटर में मौजूद कांवड़ियों को बाहर निकाला.

हादसे की जानकारी मिलते ही मेहंदीपुर बालाजी थाना पुलिस महज घटना के 20 मिनट बाद ही घटनास्थल पर पहुंच गई. साथ ही सूचना मिलने पर सिकराय, महुवा, टोडाभीम से एंबुलेंस भी तुरंत मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने घटना में घायल सभी कांवड़ियों को स्थानीय ग्रामीणों के सहयोग से एंबुलेंस में बिठा कर सिकराय अस्पताल में भर्ती कराया. वहीं कुछ कांवड़ियों को महुवा अस्पताल ले जाया गया. इस भयंकर सड़क हादसे में करीब 40 कांवड़ियों के घायल होने के जानकारी मिली है, जिनमें करीब 15 कांवड़िए गंभीर घायल बताए जा रहे हैं.

घटना की सूचना पर मानपुर पुलिस उपाधीक्षक संतराम मीना भी मौके पर पहुंचे और क्रेन की मदद से कैंटर को सीधा कराकर आवागमन को सुचारू कराया. ऐसे में नेशनल हाईवे 21 पर आधी रात को करीब 1 किलोमीटर लंबा जाम लग गया. वहीं, घटनास्थल के पास ही होटल चलाने वाले लोगों ने बताया कि हम लोग सो रहे थे कि अचानक जोर से धमाके की आवाज आई. हमनें आंख खोली तो देखा एक ट्रक पलटा हुआ है और कुछ लोग ट्रक की ओर दौड़ रहे हैं. ऐसे में हम लोग भी वहां दौड़कर पहुंचे तो देखा पलटे हुए ट्रक में कई लोग दर्द से कराह रहे थे, जिन्हें कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकाला और मौके पर ही पुलिस को सूचना दी.