Vande Bharat Express: देश के कई राज्यों से वंदे भारत एक्सप्रेस चलने की शुरुआत हो चुकी है। अब यह ट्रेन पूर्वोत्तर के राज्यों से शुरू होने जा रही है। पूर्वोत्तर की पहली वंदे भारत ट्रेन को रेलवे बोर्ड की मंजूरी मिल चुकी है।

सूत्रों के मुताबिक, यह ट्रेन पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी से गुवाहाटी के बीच चलेगी। इसका परिचालन सिलीगुड़ी जंक्शन-कामाख्या के रास्ते हो सकता है। इस ट्रेन की औसत स्पीड 65 किमी प्रति घंटे होगी।

इस वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन से असम के अलावा अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मिजोरम, मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा के यात्रियों को फायदा होगा। फिलहाल देश में सात वंदे भारत ट्रेनें चल रही हैं। पहली वंदे भारत ट्रेन साल 2019 में नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चलाई गई थी, जबकि सातवीं वंदे भारत ट्रेन हाल ही में पश्चिम बंगाल में हावड़ा से न्यू जलपाईगुड़ी के बीच चलाई गई थी।

सरकार ने देश की आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर 75 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों को चलाने का लक्ष्य रखा है। पहली 75 ट्रेनों में चेयर कार डिब्बे होंगे। इसके बाद बनने वाली वंदे भारत ट्रेनों में स्लीपर डिब्बे होंगे। रेलवे लगातार ट्रेन के डिजाइन में लगातार सुधार कर रहा है और आने वाले दिनों में इसके निर्यात की भी योजना पर भी काम किया जा रहा है।

नई वंदे भारत ट्रेन अधिकतम 180 किमी की रफ्तार से चल सकती है। नई वंदे भारत ट्रेन में ऑटोमेटिक दरवाजे, एयर कंडीशनर कोच और घूमने वाली कुर्सी है। इस कुर्सी को 180 डिग्री तक घुमाया जा सकता है। ट्रेन में जीपीएस आधारित सूचना सिस्टम, सीसीटीवी कैमरे, वैक्यूम आधारित बायो शौचालय हैं। इसे कई हाईटेक तकनीक से लैस किया गया है। ट्रेन को सुरक्षा कवच से भी लैस किया गया है।