श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के शनिवार को थाईलैंड से स्वदेश लौटने की संभावना है.

गोटबाया राजपक्षे (73) श्रीलंका में अब तक के सबसे बड़े आर्थिक संकट के बीच उनकी सरकार के खिलाफ भड़के विद्रोह के बाद देश से चले गए थे. उनके इस्तीफे की प्रदर्शनकारियों की मांग ने नौ जुलाई को उस समय जोर पकड़ लिया था, जब प्रदर्शनकारी कोलंबो में राष्ट्रपति के आवास और राजधानी में अन्य सरकारी इमारतों में घुस आए थे. राजपक्षे 13 जुलाई को देश छोड़कर चले गए थे.

13 जुलाई को दिया था पद से इस्तीफा

एक समाचार पोर्टल ने राजपक्षे के एक निकट सूत्र के हवाले से बताया कि राजपक्षे शनिवार को देश लौटेंगे. पूर्व राष्ट्रपति 'श्रीलंका एयरफोर्स' के एक विमान से मालदीव गए थे, जहां से वह सिंगापुर गए और उन्होंने 13 जुलाई को अपना इस्तीफा भेज दिया था. इसके बाद वह थाईलैंड गए और वह अस्थायी रूप से शरण ली. थाईलैंड के विदेश मंत्री डी प्रमुद्विनाई ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति राजपक्षे थाइलैंड में 90 दिन तक रह सकते हैं क्योंकि वह अब भी राजनयिक पासपोर्ट धारक हैं.

राजपक्षे फिलहाल थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक के एक होटल में ठहरे हुए हैं,  पुलिस ने उन्हें सुरक्षा कारणों से घर के अंदर रहने की सलाह दी है. राजपक्षे के अपदस्थ होने के बाद श्रीलंका की संसद ने रानिल विक्रमसिंघे को नया राष्ट्रपति नियुक्त किया था. मीडिया खबर के अनुसार, विक्रमसिंघे ने राजपक्षे की वापसी के प्रबंध कर लिए हैं. राजपक्षे परिवार के नेतृत्व वाली श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना ने गोटबाया की वापसी का प्रबंध करने का अनुरोध किया था.