भारत और चीन के सैनिकों ने 16वें दौर की सैन्य स्तरीय वार्ता में बनी सहमति के बाद लद्दाख के गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स से हटना शुरू कर दिया है.

भारत और चीन की तरफ से जारी संयुक्त बयान में इसकी जानकारी दी गई है. भारत और चीन की तरफ से जारी संयुक्त बयान में कहा गया कि गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स PP-15 के क्षेत्र में भारतीय और चीनी सैनिकों ने समन्वित और नियोजित तरीके से डिसइंगेज करना शुरू कर दिया है. इससे पेट्रोलिंग प्वाइंट (पीपी)-15 क्षेत्र में दो साल से अधिक समय से चला आ रहा गतिरोध खत्म हो जाएगा.

दोनों सेनाओं ने एक संयुक्त बयान में कहा कि पीछे हटने की प्रक्रिया की शुरुआत जुलाई में हुई 16वें दौर की उच्चस्तरीय सैन्य वार्ता का परिणाम है.
भारत-चीन के बीच 16वें दौर की कोर कमांडर स्तर की बैठक में बनी सहमति के अनुसार, 8 सितंबर 2022 को गोगरा-हॉटस्प्रिंग्स (पीपी-15) क्षेत्र से भारतीय और चीनी सैनिकों ने समन्वित एवं नियोजित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया है जो सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता के लिए अच्छा है. वार्षिक शिखर सम्मेलन से लगभग एक सप्ताह पहले सेनाओं के पीछे हटने की प्रक्रिया की घोषणा की गई है. सम्मेलन में PM नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग शामिल होंगे हैं कि दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय बैठक हो सकती है.