प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक पर बड़ा खुलासा, इस वजह से Punjab के डीजीपी ने वापस लौटने को कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक पर बड़ा खुलासा, इस वजह से Punjab के डीजीपी ने वापस लौटने को कहा

नई दिल्ली: एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में सूत्रों ने बताया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एसपीजी काफिले को पंजाब के डीजीपी ने खुद यू-टर्न लेने के लिए कहा था और एसपीजी ने सुरक्षा में चूक के दौरान पूरे समय पंजाब पुलिस के निर्देशों का पालन किया। पंजाब पुलिस और डीजीपी को इस बात की जानकारी थी कि पीएम मोदी की सुरक्षा में एक बड़ी चूक हो गई है।

शीर्ष सूत्रों ने कहा कि यह पंजाब के डीजीपी थे, जिन्होंने जोर देकर कहा था कि भीड़ उग्र हो रही है और पंजाब पुलिस सुरक्षा में चूक की पूरी स्थिति पर नजर रख रही है। सूत्रों ने कहा कि राज्य के डीजीपी ने प्रधानमंत्री के काफिले को यह कहते हुए वापस लौटने के लिए कहा था कि भीड़ आक्रामक और उन्मादी है। इसलिए, एसपीजी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप) जोकि काफिले का हिस्सा है, उसने डीजीपी के निर्देशों का पालन किया।

इस बीच, गृह मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की बुधवार को पंजाब यात्रा के दौरान हुई "गंभीर चूक" की गहन जांच करने के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया। तीन सदस्यीय समिति का नेतृत्व कैबिनेट सचिवालय के सचिव (सुरक्षा) सुधीर कुमार सक्सेना करेंगे।

बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले में एक बड़ी सुरक्षा चूक देखी गई, जब वह एक चुनावी रैली को संबोधित करने के लिए फिरोजपुर जा रहे थे और दिल्ली-अमृतसर-कटरा एक्सप्रेसवे सहित 42,000 करोड़ रुपये की विभिन्न विकास परियोजनाओं की नींव रखने।

प्रधानमंत्री को बठिंडा हवाईअड्डे से हेलिकॉप्टर पर चढ़ना था, हालांकि खराब मौसम और अंतिम क्षणों में बदलाव के कारण वह सड़क मार्ग से फिरोजपुर जा रहे थे।

फिरोजपुर के रास्ते में, उनकी सुरक्षा में एक बड़ी चूक हुई, जब प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया, जिसके कारण पीएम मोदी के काफिले को 15-20 मिनट तक इंतजार करना पड़ा। आखिरकार प्रधानमंत्री को बठिंडा हवाई अड्डे पर वापस लौटना पड़ा और अपना फिरोजपुर कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा।

सुरक्षा उल्लंघन के बाद से पंजाब सरकार प्रधानमंत्री को सुरक्षा प्रदान करने में विफल रहने के लिए बैकफुट पर है। बठिंडा पहुंचने पर, पीएम मोदी ने हवाई अड्डे पर अधिकारियों से कहा, "अपने सीएम को धन्यवाद कहना, कि मैं बठिंडा एयरपोर्ट तक जिंदा लौट आया।"

भाजपा ने पंजाब सरकार पर भी निशाना साधते हुए इसे प्रधानमंत्री को निशाना बनाने की साजिश करार दिया और आरोप लगाया कि यह प्रदर्शनकारियों के साथ मिलीभगत है।

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने उस दिन बाद में एक प्रेस वार्ताकार को संबोधित किया और कहा कि यह कहना गलत है कि पीएम मोदी की जान को खतरा है। उन्होंने कहा, "मैं प्रधानमंत्री का सम्मान करता हूं और खेद है कि उन्हें वापस लौटना पड़ा।"

Share this story