मुख्यमंत्री चन्नी सरकार ने शुरू की नए DGP की तलाश UPSC को भेजे 10 IPS अधिकारियों के नाम

मुख्यमंत्री चन्नी सरकार ने शुरू की नए DGP की तलाश UPSC को भेजे 10 IPS अधिकारियों के नाम

चंडीगढ़. पंजाब में डीजीपी की नियुक्ति को लेकर उपजे विवाद के बाद चन्नी सरकार  ने नए डीजीपी की तलाश शुरू कर दी है. सरकार ने 10 आईपीएस पुलिस अधिकारियों (10 IPS ) का एक पैनल यूपीएससी (UPSC) को भेज दिया है. इन 10 नामों में सिद्धार्थ चट्‌टोपाध्याय, दिनकर गुप्ता, वीके भावरा, एमके तिवारी, प्रबोद कुमार, रोहित चौधरी, इकबालप्रीत सहोता, संजीव कालड़ा, पराग जैन और बीके उप्पल का नाम शामिल हैं. वरिष्ठता के हिसाब से कैप्टन सरकार में डीजीपी रहे दिनकर गुप्ता को भी पैनल में रखा गया है, लेकिन कैप्टन का सीएम पद जाने के बाद वह सेंट्रल डेपुटेशन  के लिए आवेदन कर चुके हैं.

नवजोत सिंह सिद्धू ने डीजीपी इकबाल प्रीत सहोता  की नियुक्ति पर आपत्ति जाहिर की थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के मुताबिक यूपीएससी को उम्मीदवार की सेवा सीमा और रिकॉर्ड के आधार पर तीन अधिकारियों का एक पैनल बनाने के लिए अधिकृत किया गया है. चन्नी सरकार ने अब यह पैनल यूपीएससी को भेज दिया है और वहां से तीन नाम फाइनल होने के बाद ही सरकार तय कर पाएगी कि किसे डीजीपी नियुक्त किया जाना है.

सूत्रों ने कहा कि पीसीसी प्रमुख और कांग्रेस नेताओं का एक वर्ग चट्टोपाध्याय की उम्मीदवारी का समर्थन कर रहा था, लेकिन मुख्यमंत्री, डिप्टी सीएम-सह-गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा के साथ, कार्यवाहक डीजीपी इकबाल प्रीत सिंह सहोता के पीछे खड़े हो गए है.

उधर नए एडवोकेट जनरल (AG) एपीएस देयोल को लेकर भी सिद्धू नाराज है कि लेकिन जानकारों का कहना है कि उन्हें एकदम ओहदे से हटाना अब आसान नहीं है. चूंकि राज्यपाल से अधिसूचना जारी होने के बाद उनकी नियुक्ति हुई है. कहा जा रहा है अब सरकार श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी और उससे जुड़े गोलीकांड के केसों के लिए नई टीम तैयार करेगी. इस सारे घटनाक्रम के बाद सिद्धू फिलहाल खामोश हैं, वह कांग्रेस के प्रधान बने रहें इसके लिए कांग्रेस हाईकमान ने फिर से कसरत शुरू कर दी है, क्योंकि कैप्टन को खोने के बाद हाईकमान ऐसी स्थिति में सिद्धू खोना नहीं चाहती है.

Share this story