हरिद्वार धर्म संसद विवाद: CJI बोले - मामले की जल्द करेंगे सुनवाई, हेट स्पीच मामले की सुनवाई के लिए Supreme Court तैयार 

हरिद्वार धर्म संसद विवाद: CJI बोले - मामले की जल्द करेंगे सुनवाई, हेट स्पीच मामले की सुनवाई के लिए Supreme Court तैयार 

नई दिल्ली: हरिद्वार में धर्म संसद में हेट स्पीच  का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले की जल्द सुनवाई को करने के लिए तैयार हो गया है। प्रमुख न्यायाधीश एन वी रमना ने कहा कि हम मामले की सुनवाई करेंगे। चीफ जस्टिस एनवी रमणा की अध्यक्षता वाली बेंच ने सीनियर वकील कपिल सिब्बल की उन दलीलों पर गौर किया कि हेट स्पीच देने वालों के खिलाफ FIR दर्ज होने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

इस मामले को लेकर शीर्ष अदालत में  वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा 'हमने हरिद्वार में धर्म संसद में हुई घटनाओं पर एक जनहित याचिका दायर की है। देश के नारे सत्यमेव जयते से बदलकर सशस्त्रमेव जयते हो गए हैं।' सिब्बल ने कोर्ट में कहा, ‘‘हरिद्वार में 17 से 19 दिसंबर के बीच धर्म संसद में जो हुआ, उस संबंध में मैंने यह जनहित याचिका दाखिल की है। हम मुश्किल दौर में जी रहे हैं जहां देश में ‘सत्यमेव जयते’ का नारा बदल गया है। इसके बाद सीजेआई रमणा ने कहा कि कोर्ट मामले पर सुनवाई करेगा।

आपको बता दें कि हरिद्वार में पिछले महीने एक धर्म संसद का आयोजन किया गया था, जिसमें विशेष धर्म संप्रदाय के खिलाफ हेट स्पीच दिए जाने का मामला सामने आया था। इस मामले में उत्तराखंड पुलिस ने वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी और अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया था। पुलिस ने सोशल मीडिया पर धर्म विशेष के खिलाफ भड़काऊ भाषण देकर नफरत फैलाने संबंधी वायरल हो रहे वीडियो का संज्ञान लेते हुए वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी एवं अन्य के विरुद्ध कोतवाली हरिद्वार में धारा 153A IPC के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

हरिद्वार में यह कार्यक्रम तीन दिनों तक चला था। इसमें हेट स्पीच का वीडियो वायरल होने के बाद पूर्व सेना प्रमुखों, कार्यकर्ताओं और बहुत से अन्‍य लोगों ने विवादित भाषण की तीखे शब्‍दों में निंदा करते हुए कार्रवाई की मांग की थी। तृणमूल कांग्रेस नेता और आरटीआई कार्यकर्ता साकेत गोखले ने इस मामले में आयोजकों आौर वक्‍ताओं के खिलाफ खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी।

.

Share this story