कजाकिस्तान में हिंसक आंदोलन हालात बेकाबू, 'गंभीर रेड' आतंकी अलर्ट जारी, 48 की मौत, रूसी सेना ने संभाला मोर्चा

कजाकिस्तान में हिंसक आंदोलन हालात बेकाबू, 'गंभीर रेड' आतंकी अलर्ट जारी, 48 की मौत, रूसी सेना ने संभाला मोर्चा

कजाकिस्तान में हिंसक आदोलनों (kazakhstan violence) के बीच शुक्रवार को देश भर में 'गंभीर रेड' आतंकी अलर्ट (serious red terror alert) जारी किया गया। सूत्रों ने कहा कि देश के सुरक्षा बलों ने सभी शहर प्रशासन और क्षेत्रीय पुलिस विभागों पर नियंत्रण करने में कामयाबी हासिल की है।

आतंकवाद विरोधी मानदंडों के तहत विशेष सेवाओं को नागरिकों और वाहनों की इच्छानुसार तलाशी लेने की अनुमति दी जाएगी। बता दें कि हिंसक घटनाओं में अब 48 लोगों की मौत हो चुकी है।

कजाकिस्तान के राष्ट्रपति कसीम-जोमार्ट टोकायव (President Kassym-Jomart Tokayev) देर शाम तक राष्ट्र को संबोधित करेंगे। जारी अलर्ट में सभी सुरक्षा बलों और विशेष सेवाओं की पूर्ण लामबंदी शामिल है। गौरतलब है कि इस सप्ताह की शुरूआत में शुरू हुए हिंसक आंदोलन (kazakhstan violence) के दौरान सुरक्षा बलों के साथ संघर्ष में 26 सशस्त्र बल के जवान मारे गये जबकि 3000 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। गौरतलब है कि तरलीकृत पेट्रोलियम गैस की कीमतों (petroleum gas price) में दो गुना वृद्धि के विरोध में देश में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू किये गये।

इस विरोध प्रदर्शन की शुरुआत पहले छोटे स्तर पर हुई। इसके बाद विरोध अन्य शहरों में फैल गया, जिसके परिणामस्वरूप पुलिस के साथ हिंसक झड़पें और लूटपाट हुई। गृह मंत्रालय के हवाले से कहा कि विरोध प्रदर्शन के दौरान 18 और बंदूकधारी घायल हुए हैं। टोकायव ने 19 जनवरी तक आपातकाल (emergency in kazakhstan) घोषित कर दिया है और सामूहिक सुरक्षा संधि संगठन (सीएसटीओ) शांति सेना को स्थिति नियंत्रण में लाने में मदद करने के लिए आमंत्रित किया है। सामरिक संरचना सुविधाओं की रक्षा के लिए रूस और बेलारूस से शांति स्थापना दल देश में पहुंच चुके हैं।

 जमीन पर 2,500 शांति सैनिक हैं और यह संख्या बढ़ाई जा सकती है। सरकार की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि कजाकिस्तान के विदेश मंत्री मुख्तार तिलेबर्दी (Foreign Minister Mukhtar Tillebardi) ने अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से फोन पर बात की और उन्हें आतंकवाद रोधी अभियान के बारे में बताया। राष्ट्रपति टोकायव ने कहा कि ज्यादातर कजाकिस्तान के सभी क्षेत्रों में व्यवस्था बहाल कर दी गई और क्षेत्रीय अधिकारियों ने स्थिति को नियंत्रित कर लिया है। राष्ट्रपति के अनुसार, टोकायव ने आतंकवाद विरोधी समिति की एक बैठक भी की है।

Share this story