JK: जम्मू-कश्मीर में आतंक के खिलाफ अभियान जारी, NIA ने घाटी के कई जगहों पर की छापे मारी

Jammu Kashmir: जम्मू-कश्मीर में आतंक के खिलाफ अभियान जारी, NIA ने घाटी के कई जगहों पर की छापे मारी

Jammu Kashmir: टारगेट किलिंग के बाद घाटी के कई जिलों में आतंकी गतिविधि के खिलाफ अभियान तेज हैं. लगातार तलाशी और छापेमारी की जा रही है.

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गुरुवार को जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकवाद की साजिश के मामले में चल रहे जांच के दौरान घाटी के कई स्थानों पर तलाशी ली है.

दरअसल एजेंसी पिछले कई समय से घाटी सहित देश के अलग अलग हिस्सों में हिंसा फैलाने वाले आंतकी संगठनों को रोकने और टारगेट किलिंग (Target Killing) की घटनाओं को रोकने के लिए अभियान चला रही है. टारगेट किलिंग के बाद घाटी के कई जिलों में आतंकी गतिविधि के खिलाफ अभियान तेज हैं. लगातार तलाशी की जा रही है और छापेमारी भी हो रही है.

इससे पहले भी NIA ने यहां के 6 जिलों में कई आंतकी ठिकानों की तलाशी ली थी. इस तलाशी के दौरान आतंकवादी संगठनों के 98 सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया. अभियान के दौरान श्रीनगर, कुलगाम, शोपियां, पुलवामा, अनंतनाग और बारामूला जिले के तकरीबन 10 जगहों पर छापेमारी की गई थी.

स्टेट इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी का गठन

वहीं हाल ही में जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंक की कमर तोड़ने के लिए प्रदेश सरकार ने स्टेट इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी के गठन को मंजूरी दी है, जिसमें जम्मू-कश्मीर पुलिस के उन अधिकारियों को शामिल किया जाएगा जिन्होंने या तो राष्ट्रीय जांच एजेंसी में काम किया हो या जिनका आतंक के खिलाफ जांच में लंबा चौड़ा अनुभव हो. वहीं, जानकार इस नई जांच एजेंसी को लेकर कई तरह के सवाल उठा रहे हैं.

जम्मू कश्मीर प्रशासन द्वारा हाल ही में गठित स्टेट इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी में प्रदेश पुलिस के अधिकारियों की तैनाती शुरू हो गई है. फिलहाल, इस एजेंसी में डीआईजी, एसएसपी और एसपी स्तर के कई अधिकारियों को शामिल किया गया है. यह जांच एजेंसी राष्ट्रीय जांच एजेंसी की तर्ज पर जम्मू कश्मीर में काम करेगी और इस नई जांच एजेंसी को कई तरह के अधिकार भी दिए गए हैं.

Share this story