अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने बदले T20 इंटरनेशनल क्रिकेट के ये 2 नियम, अब गेंदबाजों की खैर नहीं, जानिए कैसे

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने बदले T20 इंटरनेशनल क्रिकेट के ये 2 नियम, अब गेंदबाजों की खैर नहीं, जानिए कैसे

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) (ICC) ने पुरुष और महिला क्रिकेट दोनों के टी-20 (ICC T20) प्रारूप में धीमे ओवर रेट के लिए इन-गेम पेनल्टी (in game penalty) यानी मैच में दंड की शुरुआत की है, जो इस महीने से प्रभाव में होगी।

आईसीसी के ओवर रेट नियमों (over rate rule) के अनुसार फील्डिंग टीम पारी के अंत के लिए निर्धारित समय तक अपनी पारी के अंतिम ओवर की पहली गेंद फेंकने की स्थिति में होनी चाहिए। इसमें विफल रहने पर टीमों को शेष पारी के लिए 30 गज के सर्कल के बाहर पांच के बजाय चार फील्डर रखने की अनुमति दी जाएगी।

समझा जाता है कि आईसीसी ने इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (England and Wales Cricket Board) (ईसीबी) को देखते हुए यह नियम अपनाया है, जिसने पिछले साल जुलाई में फ्रेंचाइजी क्रिकेट 'द हंड्रेड' के पहले सीजन में इसी तरह का नियम लागू किया था। आईसीसी (ICC) ने इस बारे में कहा कि उसने टी-20 प्रारूप की गति में सुधार के लिए इस नियम की प्रभावशीलता की रिपोर्ट को पढ़ने के बाद इसे अपनाया है।

आईसीसी (ICC) के मुताबिक मैच में दंड धीमे ओवर रेट के लिए मौजूदा आईसीसी जुर्माने के अतिरिक्त होगा। आईसीसी ने इसके अलावा द्विपक्षीय टी-20 श्रृंखलाओं में पारी के बीच में वैकल्पिक ड्रिंक्स ब्रेक (drinks break in T20) को भी पेश किया है। टीमें अब प्रत्येक पारी के मध्य समय पर ढाई मिनट के ब्रेक का विकल्प चुन सकती हैं, जो प्रत्येक श्रृंखला की शुरुआत से पहले दोनों टीमों के बीच एक समझौते के अधीन है। आईसीसी के मुताबिक 16 जनवरी को सबीना पार्क में वेस्ट इंडीज और आयरलैंड के बीच खेला जाने वाला टी-20 मैच पुरुषों का पहला मैच होगा, जिसमें इन नए नियमों का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके दो दिन बाद, महिलाओं के मैच में पहली बार इसका इस्तेमाल किया जाएगा, जब सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका और वेस्ट इंडीज की महिला टीम आपस में भिड़ेंगी।

Share this story