उत्तर प्रदेश के फुरकान शोएब की हाइब्रिड फ्लाइंग कार पर उड़ेगा सारा देश

उत्तर प्रदेश के फुरकान शोएब की हाइब्रिड फ्लाइंग कार पर उड़ेगा सारा देश

नई दिल्ली फिल्मों में दिखने वाली हवा में उड़ती कार जल्द ही भारत में सड़कों के साथ आसमान में उड़ती दिखाई देगी. इस सपने को जमीन पर उतारने में उत्तर प्रदेश के फुरकान शोएब का बड़ा योगदान है. फुरकान एशिया की पहली हाइब्रिड फ्लाइंग कार तैयार करने वाली चेन्नई के फर्म विनाटा एरोमोबिलिटी में बतौर चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर कार्य कर रहे हैं.

इसे लेकर उनकी कंपनी विनाटा एयरमोबिलिटी ने केंद्रीय सिविल एविएशन मंत्रालय के सामने प्रेजेंटेशन भी दी है, जिसकी प्रशंसा केंद्रीय सिविल एविएशन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने की है. अमेरिकी रिसर्च एवं मीडिया एजेंसी  ने फुरकान और उनकी टीम की इस उपलब्धि की प्रशंसा की है.

फुरकान शोएब पेशे से एयरोनॉटिकल इंजीनियर हैं. उन्होंने ड्रोन पायलट के लिए प्रशिक्षण लिया है. फुरकान को एयरोस्पेस डिजाइन और यूएवी यानी ड्रोन इंजीनियरिंग में विशेषज्ञता हासिल है. ड्रोन के विभिन्न कंफिगरेशन के रिसर्च और डेवलपमेंट से जुड़े होने के कारण आज विनाटा में वह बतौर चीफ टेक्निकल ऑफिसर कार्यरत है.

विनाटा कंपनी का दावा है कि उनके द्वारा तैयार की जाने वाली यह एशिया की पहली हाइब्रिड फ्लाइंग कार है. इसका उपयोग आम लोगों और कार्गो के परिवहन के साथ चिकित्सा आपातकालीन सेवाएं प्रदान करने में अहम रोल अदा करेगी.


कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि विनाटा हाइब्रिड मॉडल फ्लाइंग कार पर सितंबर 2018से काम कर रही है. फुरकान ने फरवरी 2021में कंपनी ज्वाइन किया है. निश्चित ही चीफ टेक्निकल ऑफिसर के तौर पर अपनी जिम्मेवारी निभा रहे है. उनके मार्गदर्शन में ही सारे काम हुए हैं.कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, एशिया की पहली हाइब्रिड फ्लाइंग कार 2023तक तैयार हो जाएगी. कंपनी ने हाल में दुनिया के सबसे बड़े हेलिटेक एक्सपो - एक्सेल, लंदन में प्रोटोटाइप फ्लाइंग कार का लांच किया है. तकनीक पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि हाइब्रिड फ्लाइंग कार एक वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग मशीन है. इसमें रोटर कॉन्फिगरेशन को-एक्सियल क्वाड-रोटर है.

 

हाइब्रिड फ्लाइंग कार की खास बातें .

हाइब्रिड फ्लाइंग कार 120किमी प्रति घंटे की टॉप स्पीड से 60मिनट तक उड़ सकती है.

  • -यह जमीन से अधिकतम 3,000फीट की ऊंचाई पर उड़ सकती है.
  • -टू-सीटर फ्लाइंग कार का वजन 1100किलोग्राम होने का अनुमान है.
  • - यह अधिकतम 1300किलोग्राम वजन उठा सकती है.
  • - केबिन हाइलाइट्स की बात करें तो अंदर की तरफ, विनाटा की हाइब्रिड फ्लाइंग कार में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ डिजिटल इंस्ट्रूमेंट पैनल हैं, जो कार को उड़ने और चलाने के अनुभव को अधिक आकर्षक और परेशानी मुक्त बनाते हंै.
  • -डिजिटल टचस्क्रीन सिस्टम नेविगेशन और मौसम की जानकारी सहित विभिन्न गतिविधियों को प्रदर्शित करती हैं.
  • -उड़ने वाली कार में पैनोरमिक विंडो कैनोपी है जो 300डिग्री का दृश्य प्रदान करती है.
  • -सुरक्षा के उद्देश्य से, हाइब्रिड इलेक्ट्रिक फ्लाइंग कार में इजेक्शन पैराशूट के साथ एयरबैग सक्षम कॉकपिट भी है.
  • -यह वितरित विद्युत प्रणोदन (डीईपी) प्रणाली का उपयोग करता है, जो यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करता है.
  • - विमान पर कई प्रोपेलर और मोटर हैं. यदि एक या अधिक मोटर या प्रोपेलर विफल हो जाए, तो अन्य काम करने वाले मोटर और प्रोपेलर विमान को सुरक्षित रूप से उतार सकते हैं.
  • - इस्तेमाल को टिकाऊ बनाने के लिए हाइब्रिड फ्लाइंग कार में बिजली के साथ बायो फ्यूल का इस्तेमाल किया जा सकेगा.
  • -बैकअप पावर, जनरेटर

Share this story