Mata Vaishno Devi Mandir: अब इस तरीके से होंगे माता वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन, हादसे के बाद हुआ फैसला

Mata Vaishno Devi Mandir: अब इस तरीके से होंगे माता वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन, हादसे के बाद हुआ फैसला

रविवार को बुलाई गई वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की बैठक में ये फैसला लिया गया है कि अब श्रद्धालुओं को माता के दर्शन करने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना पड़ेगा.पर्ची सिस्टम को बंद कर दिया गया है.

Mata Vaishno Devi Mandir: जम्मू-कश्मीर के कटरा में स्थित माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़ के एक दिन बाद रविवार को अधिकारियों ने सुरक्षाकर्मियों की पूरी तैनाती के साथ-साथ सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है. इसके साथ-साथ मंदिर परिसर में किसी भी तरह की भीड़भाड़ को रोकने के लिए अब यात्रा की बुकिंग केवल ऑनलाइन ही की जा सकेगी. रविवार को बुलाई गई बैठक में वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की तरफ से ये फैसला लिया गया है. जिसके तहत अब श्रद्धालुओं को माता के दर्शन करने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना पड़ेगा, क्योंकि पर्ची सिस्टम को हमेशा के लिए बंद कर दिया गया है. इस बीच श्रद्धालुओं के माता वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन करने के लिए आने का सिलसिला जारी है.

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा द्वारा गठित एक उच्चाधिकार प्राप्त जांच समिति ने घटनास्थल का दौरा किया और आम जनता से घटना के बारे में वीडियो, बयान या कोई अन्य सबूत शेयर करने की अपील की. मनोज सिन्हा ने रविवार को यहां श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की बैठक की अध्यक्षता की. बैठक के बाद उपराज्यपाल ने ट्वीट के माध्यम से बताया कि जांच के बाद आवश्यकता पड़ने पर व्यवस्था में सुधारों, बुनियादी ढांचे का निर्माण शुरू करने और 100 प्रतिशत ऑनलाइन बुकिंग करने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं. साथी ही उन्होंने बताया कि पूरे रास्ते पर भीड़भाड़ कम करने, भीड़ और कतारों के प्रभावी प्रबंधन के लिए टेक्नोलॉजी के उचित इस्तेमाल, आरएफआईडी ट्रैकिंग करने समेत कई कदम उठाए गए हैं.

पांच लाख रुपये की अतिरिक्त अनुग्रह राशि देने की भी हुई घोषणा

उन्होंने घटना में जान गंवाने वाले श्रद्धालुओं के परिजनों में से प्रत्येक को पांच लाख रुपये की अतिरिक्त अनुग्रह राशि देने की भी घोषणा की. उन्होंने कहा कि अनुग्रह राशि के तौर पर 10 लाख रुपये दिए जाने के अलावा इस दुर्भाग्यपूर्ण दुखद घटना में जान गंवाने वाले श्रद्धालुओं के परिजनों को पांच लाख रुपये की अतिरिक्त राशि भी दी जाएगी. अधिकारियों के अनुसार शनिवार को 27,000 से अधिक तीर्थयात्रियों ने मंदिर में दर्शन किए थे, जबकि रविवार को शाम छह बजे तक 15,000 से अधिक तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए.

2021 में 55.77 लाख से अधिक श्रद्धालु पहुंचे दर्शन करने

दूसरी तरफ यात्रा एक बार फिर से सुचारू रूप से चल रही है और श्रद्धालुओं ने श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड द्वारा की गई व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया है. वर्ष 2021 में 55.77 लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन करने के लिए यहां आये जबकि कोरोना वायरस महामारी के कारण उसके पिछले वर्ष 17 लाख श्रद्धालु ही आये थे. आपको बता दें कि नये साल की भीड़ के दौरान तीर्थयात्रियों के दो ग्रुप के बीच झगड़े के बाद शुक्रवार देर रात हुई भगदड़ में 12 लोगों की जान चली गई थी और 16 अन्य घायल हो गए थे. कई प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि लोगों की भीड़ अधिक थी क्योंकि लोग दर्शन के बाद कटरा के आधार शिविर लौटने के बजाय मंदिर परिसर में ही रुके हुए थे. जम्मू से लगभग 50 किलोमीटर दूर रियासी जिले में त्रिकुट पहाड़ियों के ऊपर स्थित इस पवित्र मंदिर में यह पहली ऐसी घटना थी.

श्रद्धालु बोले- हमें कोई समस्या नहीं हुई

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के रहने वाले मनोज कुमार ने कहा कि दुखद घटना के बारे में सुनने के बाद भी तीर्थयात्रा को स्थगित करने का उनके मन में कभी ख्याल नहीं आया. उन्होंने कहा कि जो हुआ वह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी. हम लंबे समय से इस दिन का इंतजार कर रहे थे और यहां प्रार्थना करने और माता का आशीर्वाद लेने के लिए यहां पहुंचकर खुशी हो रही है. उन्होंने कहा कि मैं पहले भी कई बार यहां आ चुका हूं और इस जगह को अच्छी तरह जानता हूं. दिल्ली के लक्ष्मी नगर निवासी 24 वर्षीय शुभम ने भी कहा कि पुलिस और सीआरपीएफ के जवान यात्रा का प्रबंधन कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमें कोई समस्या नहीं हुई और यात्रा सुचारू रूप से चल रही है.

Share this story