28 दिसंबर 2021: भारत में विगत कुछ वर्षों में रीजनल इन्फ्लुएंसर्स की संख्या में काफी तेजी से वृद्धि देखी गई है। आधुनिकता पर ध्यान दें, तो रीजनल इन्फ्लुएंसर्स डिजिटल दुनिया का एक अभिन्न अंग बन चुके हैं। ये रीजनल इन्फ्लुएंसर्स न केवल समाज को प्रभावित कर रहे हैं, बल्कि वे तेजी से वैश्विक भी होते जा रहे हैं। भारत एक कॉन्टेंट-ड्रिवन और डाइवर्स मार्केट है, जहाँ लोकल कॉन्टेंट अपने में काफी मजबूती लिए हुए है। IRPRA रीजनल इन्फ्लुएंसर समिट एंड अवॉर्ड्स का उद्देश्य 100+ प्रख्यात रीजनल सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर्स को पुरस्कृत करके समूचे रीजनल इकोसिस्टम को नई पहचान दिलाना है। IRPRA रीजनल इन्फ्लुएंसर अवॉर्ड्स के लिए नामांकन 22 दिसंबर से शुरू हो चुके हैं।

पिछले कुछ वर्षों में सोशल मीडिया, दुनिया को एक सूत्र में बाँधने का बेहद महत्वपूर्ण स्रोत बन गया है। इसके परिणाम स्वरुप, सोशल मीडिया पर तेजी से भारी मात्रा में कॉन्टेंट देखने को मिला और इसके साथ ही कई रचनाकारों का उदय हुआ। ये वे आम लोग हैं, जो खुद को व्यक्त करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर निखरकर सामने आए। IRPRA रीजनल इन्फ्लुएंसर अवॉर्ड्स उन उभरते हुए रीजनल इन्फ्लुएंसर्स को नई पहचान दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है, जो अपने रचनात्मक विचारों और आकर्षक कॉन्टेंट के साथ रीजनल कम्युनिकेशन्स इंडस्ट्री को आकार दे रहे हैं। मुख्य रूप से, रीजनल पीआर अवॉर्ड्स को 6 मुख्य श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है:

● लोग और राजनीति (पीपल और पॉलिटिक्स)
● स्थानीय खबरें (लोकल न्यूज़)
● खेल (स्पोर्ट्स)
● एनजीओ/पीएसयू/सरकार
● रेडियो जॉकी/वीडियो जॉकी
● हेल्थ तथा वेलनेस 

IRPRA अवॉर्ड्स के आयोजक पवन त्रिपाठी कहते हैं, "हाल के वर्षों में डिजिटल परिदृश्य में क्राँतिकारी बदलाव देखने में आए हैं। IRPRA यानी भारत के रीजनल अवॉर्ड्स के साथ, हम डिजिटल स्पेस में दिग्गजों की उपलब्धियों का जश्न मनाना चाहते हैं। इन अवॉर्ड्स के साथ, हम उन प्रभावशाली लोगों को पहचानना और उन्हें पुरस्कृत करना चाहते हैं जिन्होंने अपने संबंधित क्षेत्रों में हजारों अनुयायियों को प्रेरित किया है।"

IRPRA रीजनल इन्फ्लुएंसर अवॉर्ड्स का आयोजन फरवरी, 2022 में वर्चुअल स्पेस पर होने जा रहा है और इसके नामांकन 22 दिसंबर 2021 से लेकर 15 जनवरी 2022 तक जारी रहेंगे। रजिस्ट्रेशन्स और नामांकन पूर्णतः निःशुल्क हैं।