Pfizer COVID Vaccine: कोविड संक्रमण के प्रसार पर लगेगा ब्रेक, फाइजर के अधिकारी अल्बर्ट बौर्ला ने बताया कब तक बनेगी ओमिक्रोन वेरिएंट रोधी वैक्सीन

Pfizer COVID Vaccine: कोविड संक्रमण के प्रसार पर लगेगा ब्रेक, फाइजर के अधिकारी अल्बर्ट बौर्ला ने बताया कब तक बनेगी ओमिक्रोन वेरिएंट रोधी वैक्सीन

Covid-19 Vaccination: फाइजर के अधिकारी अल्बर्ट बौर्ला ने कहा कि वर्तमान में कोविड से बचाव के लिए दो वैक्सीन और बूस्टर के डोज ने ओमिक्रोन से गंभीर स्वास्थ्य प्रभावों के खिलाफ उचित सुरक्षा प्रदान की है.

Pfizer COVID Vaccine: फाइजर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अल्बर्ट बौर्ला ने एक समाचार को बताया कि फाइजर पहले से ही सरकारों की वैक्सीन में गहरी दिलचस्पी के कारण बड़ी कोविड खुराकों का निर्माण कर रहा है. क्योंकि दुनियाभर की सरकारें अपने देश में कोविड -19 के भयानक संक्रमण से जूझ रही हैं. जिनमें कोविड के नए वेरिएंट के कारण बढ़ते हुए केस भी शामिल हैं.

मार्च तक तैयार हो जाएगा ओमिक्रोन रोधी कोविड टीका

बौर्ला ने बताया कि ओमिक्रोन रोधी टीका मार्च तक तैयार हो जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें यह नहीं पता कि इस टीके की आवश्यकता होगी या नहीं इसका उपयोग किया जाएगा या नहीं लेकिन फिर भी वह इस टीके का निर्माण कर रहे हैं. बौर्ला ने कहा कि वर्तमान में कोविड से बचाव के दो वैक्सीन शॉट्स और एक बूस्टर के मौजूदा डोज ने ओमिक्रोन से गंभीर स्वास्थ्य प्रभावों के खिलाफ "उचित" सुरक्षा प्रदान की है. लेकिन ओमिक्रोन वेरिएंट को सीधे ध्यान में रखते हुए बनाया गया यह कोविड रोधी टीका ऐसे वेरिएंट से रक्षा करेगा जो अत्यधिक संक्रामक साबित हुए है और इसके परिणामस्वरूप कई हल्के या कम संक्रमण के मामले सामने आए हैं.

मॉर्डना भी विकसित कर रही है ओमिक्रोन से बचाव का कोविड टीका

वहीं मॉर्डना वैक्सीन के सीईओ स्टीफन बंसेल ने समाचार से एक अन्य इंटरव्यु में बात करते हुए कहा कि कंपनी एक बूस्टर विकसित कर रही है जो 2022 के अंत में ओमिक्रोन और कोविड के अन्य संभावित वेरिएंट को रोकने में काफी मददगार साबित होगा. बंसेल ने समाचार एजेंसी से कहा कि हम दुनिया भर के नेताओं के साथ चर्चा कर रहे हैं ताकि यह तय किया जा सके कि 2022 के अंत तक हम संभावित कोविड वेरिएंट्स से निपटने के लिए किस वैक्सीन का निर्माण करें और उसकी संभावित बूस्टर के लिए सबसे अच्छी रणनीति क्या है.

गौरतलब है कि दुनियाभर में ओमिक्रोन कोरोना के अन्य वेरिऐंट्स की तुलना में काफी तेजी से फैल रहा है. लेकिन हेल्थ एक्सपर्टस ने इस वायरस के कारण मौत का खतरा या शरीर के अंगों के खराब होने का डर बेहद कम बताया है. हालांकि हेल्थ एक्सपर्ट्स का यह भी कहना है कि यह वायरस बच्चों को जल्दी अपनी चपेट में ले रहा है.

Share this story