शहर में 50 की ट्रेनिंग शुरू:तीसरी लहर के लिए प्रदेश में 117 नए आक्सीजन प्लांट, 468 लोगों को मिलेगा रोजगार

 शहर में 50 की ट्रेनिंग शुरू:तीसरी लहर के लिए प्रदेश में 117 नए आक्सीजन प्लांट, 468 लोगों को मिलेगा रोजगार

RAIPUR : कोरोनाकाल हेल्थ सेटअप में सुधार के लिए वरदान की तरह आया है। इसी कड़ी में प्रदेश के 117 से अधिक नए ऑक्सीजन प्लांट अब युवाओं के लिए स्किल ट्रेनिंग और रोजगार के नए मौके लेकर आ रहे हैं। इन प्लांट में 468 युवाओं को नौकरी मिलेगी। राजधानी में इसी नौकरी के लिए ट्रेनिंग की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

यहां कालीबाड़ी मदर-चाइल्ड केयर अस्पताल और पंडरी जिला अस्पताल में 50 युवाओं को ऑक्सीजन प्लांट चलाने की ट्रेनिंग भी शुरू कर दी गई। उन्हें बताया जा रहा है कि ऑक्सीजन प्लांट में तकनीकी काम कैसे करते हैं, क्रिटिकल कंडीशन में प्लांट से ऑक्सीजन का मैनेजमेंट कैसे करना है आदि। प्रदेश में अन्य जिलों में भी राजधानी के इसी मॉडल पर 500 से अधिक युवाओं को स्किल ट्रेनिंग के बड़े प्देलान पर काम शुरू किया गया है। अफसरों ने बताया कि युवाओं को ऑक्सीजन प्लांट में 180 घंटे की ट्रेनिंग दी जा रही है। इसमें थ्योरी के साथ प्रैक्टिकल भी सिखाया जाएगा। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद सभी को ऑक्सीजन प्लांट चलाने का एक सर्टिफिकेट भी मिलेगा। इसके लिए आईटीआई पढ़कर निकले युवाओं को चुना जा रहा है। जानकारों के मुताबिक कोरोना की तीसरी लहर नहीं भी आई तो भी युवाओं को नौकरी मिलने की पूरी गारंटी इसलिए भी है क्योंकि ऑक्सीजन प्लांट अब सभी जगह संचालित किए जाएंगे। रायपुर में ऑक्सीजन प्लांट संचालन की ट्रेनिंग लेने वाले युवाओं ने राजधानी के अलावा महासमुंद, बलौदाबाजार, बालोद जिलों के भी युवक हैं।

प्रदेश में कुल 117 आक्सीजन प्लांट या तो बन गए, या बन रहे हैं। इसमें पीएम केयर फंड के जरिए 57 प्लांट हैं। स्वास्थ्य विभाग ने 36 से अधिक प्लांट तैयार किए हैं। बाकी प्लांट एनजीओ और कॉरपोरेट की मदद से तैयार किए जा रहे हैं। जिला अस्पताल कोविड केयर सेंटर और अस्पताल से लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। लिहाजा इनके संचालन के लिए आने वाले दिनों में करीब 468 से अधिक नौकरियों के अवसर बने हैं। अभी कोरोना के केस भी कम हैं इसलिए युवाओं को ट्रेंड किया जा रहा है, ताकि ऐन वक्त पर दिक्कत न हो।

Share this story