मेहनताना कम करने से नाराज मजदूर कल करेंगे हड़ताल,पानीपत 

मेहनताना कम करने से नाराज मजदूर कल करेंगे हड़ताल,पानीपत

पानीपतः हरियाणा सरकार द्वारा 1 तारीख से अनाज मंडियों में धान की फसलों की खरीद शुरू हो रही है. लेकिन, फसलों की खरीद शुरू होने से पहले अनाज मंडी के मजदूरों में मजदूरी कम होने से रोष नजर आ रहा है. अनाज मंडी में लगभग 1000 से अधिक मजदूरों में रोष इतना बढ़ गया है कि हड़ताल व रोड़ जाम करने की बात कर रहे है.

बता दें कि पानीपत की अनाज मंडी में मजदूरी कम होने से मजदूर गुस्से में नजर आ रहे है. अनाज मंडी में महेंद्र मजदूर से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया कि बिहार प्रदेश से कोरोना में यहां काम करने आए हैं, लेकिन जो मजदूरी पहले मिल रहा था उस मजदूरी से 1.50 पैसे कम कर दी है. उन्होंने कहा कि जो पहले मजदूरी मिल रही थी वह अब नहीं मिल रही है.

मजदूर ने आगे बताया कि इस कोरोना काल में मजदूरी बढ़नी चाहिए थी लेकिन अधिकारी कम कर रहे हैं. मजदूर ने बताया कि पहले ₹9.89 पैसे मजदूरी मिल रही थी लेकिन अब 8.56 पैसे हो कर दी है. महेंद्र ने कहा कि धूप, बरसात में हम काम कर रहे हैं जहां मजदूरी बढ़ने चाहिये थी वहीं कम हो रही है.

इसी के साथ मजदूर अमरजीत ने बताया कि मंडी में 1000 से ज्यादा मजदूर काम करते हैं जहां हमारा पैसा बढ़ना चाहिए था वहां कम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बिहार से सब पैसा कमाने आये है. यहां भूखा प्यासा मरने नहीं आये है. वही पैसा यह लोग काट रहे हैं. अगर इन्होंने हमारा पैसा नहीं बढ़ाया तो हम हड़ताल के साथ रोड़ जाम करेंगे.

मजदूर ने आगे कहा कि हर साल मजदूरी बढ़नी चाहिए, लेकिन हर साल कम हो रही है. उन्होंने मांग की है कि मजदूरी का रेट सरकार को बढ़ना चाहिए. तो वहीं, एक ओर मजदूर ने कहा कि 1991 से यह मंडी चालू है. कितने सालों में मजदूरी बढ़ते-बढ़ते आज 9.91 पैसे हुई है. उन्होंने कहा कि आज भी मजदूरी का रेट 2 साल पहले का मिलता है.

उन्होंने कहा कि पिछले 2 साल से हमारी मजदूरी नहीं बढ़ी है. उन्होंने कहा कि खून पसीना बहाकर हम काम कर रहे हैं और सरकार मजदूरी कम कर रही है. सरकार से हमारी यही मांग है कि मजदूरी को बढ़ाया जाए. उन्होंने कहा कि मजदूर के पेट पर नहीं पीठ पर लात मारे.

Share this story