Chhattisgarh News: सरगुजा इलाके की सड़कों ने तय कराया सियासत का सफर, लेकिन नहीं सुधरी इनकी तकदीर, जिम्मेदार कौन?

Chhattisgarh News: सरगुजा इलाके की सड़कों ने तय कराया सियासत का सफर, लेकिन नहीं सुधरी इनकी तकदीर, जिम्मेदार कौन?

छत्तीसगढ़ के सरगुजा इलाके की सड़क भाजपा सरकार में भी बदहाल थी और अब कांग्रेस की सरकार में भी. वैसे सरगुजा की खराब सड़कों पर सियासत करने वाले आज चमक गए हैं.

लेकिन सड़कों की तकदीर नहीं बदली.

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ में भाजपा के 15 साल की सरकार में सरगुजा की खराब सड़कों के लिए हर साल प्रदर्शन करने वाले जिला के सीतापुर विधायक अब प्रदेश के बडे़ मंत्री बन गए हैं. लेकिन अब भी सड़कों की हालत इस कदर खराब है कि अब उस समय की सत्ता पर सवार भाजपाई अब मंत्री जी को उन्हीं के अंदाज में आईना दिखाने की फिराक में हैं. इसके अलावा संभाग मुख्यालय अम्बिकापुर की सड़कों की हालत भी किसी छिपी नहीं है.

भाजयुमो कार्यकर्ता करेंगे ये काम

छत्तीसगढ़ भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू पिछले तीन दिन तक सरगुजा संभाग के दौरे पर थे. इस दौरान उन्होंने सरगुजा संभाग मुख्यालय में अपने कार्यकर्ताओं से बैठकें रखी औऱ अलग-अलग ग्रामीण इलाकों का दौरा भी किया. जिसके बाद अमित साहू ने मीडिया से बातचीत करते हुए प्रदेश के खाद्य मंत्री औऱ सरगुजा के सीतापुर से विधायक अमरजीत भगत पर सड़कों के मामले को लेकर गंभीर आरोप लगाए. अमित साहू के मुताबिक विपक्ष में रहते हुए अमरजीत भगत सड़कों के खराब होने की बात कहके सडंक पर धान के पौधे (रोपा) लगाते थे. लेकिन अब उनकी सरकार सड़के पूरी तरह बदहाल हैं. इतना ही नहीं भाजुयमो अध्यक्ष ने कहा कि अब भारतीय जनता युवा मोर्चा का हर कार्यकर्ता मंत्री अमरजीत भगत तक पहुंच कर उनसे निवेदन करेगा कि चलिए अब सड़को पर रोपा (धान का पौधा) लगाइए और खुद अपनी सरकार को जगाइए, जिससे सरगुजा की बदहाल सड़क अच्छी हो सके और आम लोगों को अच्छी सड़कों की सुविधा मिल सके.

संभाग मुख्यालय की खराब सडक भी मुसीबत
छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद सरगुजा संभाग मुख्यालय अम्बिकापुर के नगर पालिक निगम में भी कांग्रेस सत्ता मे आ गई. जिसके बाद ये कयास लगाए जा रहे थे कि अब क्लीन सिटी अम्बिकापुर की सड़के भी चमक जाएंगी, जिसके लिए निगम प्रबंधन औऱ खुद महापौर अजय तिर्की में प्रय़ास भी किया. पिछले दिनों नगर निगम के सामान्य सभा की बैठक में विपक्षी दल भाजपा के पार्षद विश्वविजय सिंह तोमर ने भी खराब सड़कों पर सवाल उठाया था. इधऱ निगम महापौर डॉ अजय तिर्की ने बताया कि उन्होंने निगम की सरकार बनने के बाद करीब दो साल पहले ही राज्य सरकार के नगरीय प्रशासन विभाग को एक प्रस्ताव भेजा था. जिसमें अम्बिकापुर नगर निगम के 48 वार्डों के अंदर बाहर की सड़कों की करीब 222 किलोमीटर सड़क के लिए 34 करोड़ की मांग की थी. इतना ही नहीं उनसे मिली जानकारी के मुताबिक उस प्रस्ताव के बाद करीब 2 महीने पहले ही शहर की सड़कों के लिए फिर से रिमाईंडर लेटर नगरीय प्रशासन विभाग को भेजा है. लेकिन हैरत की बात है कि निगम में भी कांग्रेस की सरकार और राज्य में भी कांग्रेस की सरकार है. उसके बाद भी ना ही निगम प्रबंधन के पास राज्य सरकार से सड़क के लिए फंड आया और ना ही शहर के भीतरी इलाको की सडक मे सुधार हो पाया है.

Share this story