नक्सलियों ने की थी आगजनी, विरोध में लामबंद हुए ग्रामीण :छ्त्तीसगढ़

नक्सलियों ने की थी आगजनी, विरोध में लामबंद हुए ग्रामीण छ्त्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में छोटेडोंगर से करीब सात किलोमीटर दूर स्थित मढ़ोनार गांव के पास एक पुल का निर्माण कार्य चल रहा था. गुरुवार के दिन आमदई एरिया कमेटी के नक्सलियों ने कार्य स्थल पर पहुंचकर जमकर उत्पात मचाया था. मजदूरों के साथ मारपीट की थी और मुंशी की हत्या कर दी थी. नक्सलियों ने जेसीबी, ट्रैक्टर और बाइक को आग के हवाले कर दिया था. इस घटना के बाद मढ़ोनार गांव में आक्रोश है.

मढ़ोनार गांव के लोग बड़ी संख्या में रैली की शक्ल में पैदल चलकर आठ किलोमीटर दूर छोटेडोंगर थाने पहुचे और नक्सलियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की. ग्रामीणों आरोप लगाया कि नक्सली गांव का विकास नहीं होने देना चाहते. इस सड़क के बन जाने से ग्रामीणों को सभी सुविधाएं मिलने लगेंगी. ग्रामीणों का कहना है कि हम गरीब मजदूरी कर अपना और अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं लेकिन नक्सली बेवजह हमारे साथ मारपीट करते हैं, धमकी देते हैं.

नक्सलियों ने जिस मुंशी संदीप जाना की हत्या कर दी थी उसका शव पूरी रात घटना स्थल पर ही पड़ा रहा. संदीप का शव करीब 16 घंटे बाद अगले दिन ट्रैक्टर से छोटेडोंगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा जहां पुलिस ने पंचनामा के बाद उसे पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवा दिया. पुलिस पर भी नक्सलियों का खौफ साफ दिख रहा है. घटना को 24 घंटे से अधिक समय गुजर गए लेकिन पुलिस मौके पर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाई है.

छोटेडोंगर के एसडीओपी अभिषेक पैकरा ने घटना को लेकर बताया कि नक्सलियों ने पुल के निर्माण कार्य में लगे वाहनों को आग लगा दी और मजदूरों के साथ मारपीट की. उन्होंने कहा कि नक्सलियों ने महिला मजदूरों को भी नहीं छोड़ा जिसे लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है. नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

Share this story