UP योगी मंत्रिमंडल में शामिल हुए संजय गोंड, 2017 में पहली बार सोनभद्र के ओबरा सीट से बने थे विधायक

UP योगी मंत्रिमंडल में शामिल हुए संजय गोंड, 2017 में पहली बार सोनभद्र के ओबरा सीट से बने थे विधायक

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल के बहुप्रतीक्षित विस्तार के तहत रविवार को 7 मंत्रियों ने शपथ ली. उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले इस मंत्रिमंडल विस्तार को काफी अहम माना जा रहा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विस्तार में सभी समुदायों को जगह देने की कोशिश की है. नए मंत्रियों में अनुसूचित जनजाति से आने वाले संजीव कुमार उर्फ संजय गोंड भी शामिल है, जिन्होंने राज्यमंत्री के रूप में शपथ ली है.

संजय गोंड सोनभद्र जिले के ओबरा सीट से विधायक हैं. साल 2017 के विधानसभा चुनाव में वे पहली बार विधायक चुने गए थे. 45 साल के संजय गोंड ने 2017 में समाजवादी पार्टी (SP) के उम्मीदवार रवि गोंड को 44,269 वोट से हराया था. उन्हें कुल 49.24 फीसदी वोट हासिल हुआ था. वहीं इस सीट बहुजन समाज पार्टी (BSP) के प्रत्याशी वीरेंद्र प्रताप सिंह तीसरे स्थान पर रहे थे.

बीजेपी ने जून में संजय गोंड को अनुसूचित जनजाति मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया था. 6 जून 1975 को जन्मे संजीव कुमार सोनभद्र जिले के बाड़ी गांव के रहने वाले हैं. उन्होंने 1991 में इलाहाबाद से हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी की. संजय के परिवार में उनकी पत्नी लीला देवी और तीन बेटे हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज का विस्तार हर तबके को प्रतिनिधित्व, सामाजिक संतुलन की भावना, समरसता का संदेश और अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को अवसर प्रदान करने की मंशा से ओतप्रोत है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रिमंडल विस्तार के बाद ट्विटर पर लिखा, ” आज उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल में शामिल हुए सभी नए सदस्यों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं. पूर्ण विश्वास है कि आपकी ऊर्जा, प्रतिबद्धता, अनुभव एवं जन पक्षधरता 'अंत्योदय' के संकल्प को साकार करने में सहयोगी सिद्ध होगी. आप सभी के उज्ज्वल कार्यकाल हेतु अनंत मंगलकामनाएं.”

संजय गोंड के अलावा मंत्रिमंडल में जितिन प्रसाद, छत्रपाल गंगवार, धर्मवीर प्रजापति, पलटू राम, दिनेश खटीक और संगीता बलवंत बिंद को शामिल किया गया है. विस्तार के बाद उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल में मंत्रियों की अधिकतम संख्या 60 पहुंच गई है. मंत्रियों की अधिकतम संख्या विधानसभा के कुल सदस्यों का 15 फीसदी हो सकता है. उत्तर प्रदेश विधानसभा में कुल 403 सीटें हैं.

Share this story