बारहवीं में 85 प्रतिशत से कम वाले छात्रों को नहीं मिले सरकारी कालेज, प्राइवेट में खाली सीटें

बारहवीं में 85 प्रतिशत से कम वाले छात्रों को नहीं मिले सरकारी कालेज, प्राइवेट में खाली सीटें

रायपुर: बारहवीं में घर से आंसरशीट बनाने की वजह से इस बार छात्रों ने बोर्ड में इतना बड़ा स्कोर किया कि अच्छे नंबर पाने के बावजूद प्रमुख कालेजों में दाखिले के लिए सभी को कड़े कंपीटिशन का सामना करना पड़ गया। गुरुवार, 30 सितंबर को कालेजों में प्रवेश का आखिरी दिन था, इसलिए सभी प्रमुख सरकारी कालेजों में छात्रों का मेला लग गया। लेकिन ज्यादातर मायूस लौटे क्योंकि प्रमुख कालेजों में साइंस ग्रुप का कटऑफ 85 प्रतिशत से नीचे गया ही नहीं।

राजधानी के साइंस कालेज और डिग्री गर्ल्स कालेजों में शाम तक साइंस ग्रुप की एक भी सीट खाली नहीं बची। बाकी सरकारी कालेजों में कटऑफ कुछ कम हुआ, लेकिन सीटें वहां भी नहीं बचीं। रविवि प्रबंधन से जुड़े अफसरों के मुताबिक अंतिम दिन अधिकांश प्राइवेट कालेजों की पूरी सीटें नहीं भरीं।

कहीं-कहीं तो 50 प्रतिशत से ज्यादा सीटें खाली रह गई हैं। शिक्षा सत्र 2021-22 में प्रवेश के लिए गुरुवार को राजधानी के लगभग सभी कालेजों में बची सीटों के लिए ओपन काउंसिलिंग रखी गई। इस वजह से कालेजों में सुबह से ही भीड़ लग गई, क्योंकि पहले आओ पहले पाओ के भी आसार थे।

रविवि ने कालेजों से मांगा एडमिशन का ब्योरा
पं. रविशंकर विवि के रजिस्ट्रार गिरीशकांत पांडे ने बताया कि इस सत्र के लिए यूजी व पीजी में प्रवेश की प्रक्रिया गुरुवार को खत्म हो गई, लेकिन कॉलेजों से पूछा है कि कितनी सीटें भरीं और कितनी खाली रह गईं। इनमें सरकारी व प्राइवेट कॉलेज भी हैं। इससे पता चलेगा कि इस बार यूजी व पीजी में प्रवेश की क्या स्थिति थी और सरकारी-प्राइवेट कॉलेजों में कितनी सीटें खाली रह गईं।

भारत टीवी  लाइव

छत्तीसगढ़ कॉलेज : कामर्स में 90 % से कम वाले भी अटके
दोपहर 12 बजे भारत टीवी लाइव की टीम छत्तीसगढ़ कॉलेज पहुंची। कई ग्रुप स्टूडेंट्स थे। ऐसे ही कुछ ग्रुप के छात्र कामर्स में प्रवेश लेने चाहते थे। इनमें से कई छात्रों के 85% तक नंबर थे। शुरुआत में जब पहली लिस्ट जारी की गई थी तब कटऑफ 90 से अधिक था। छात्रों को उम्मीद थी आखिरी दिन उन्हें प्रवेश जाएगा। लेकिन कटऑफ 90 से नीचे नहीं आया। छत्तीसगढ़ कॉलेज में कामर्स की 265 सीटें है, सभी भर गई। प्रवेश की प्रक्रिया देर शाम तक चली।

साइंस कॉलेज: पहले से ही सीटें फुल, गिनती के प्रवेश
राज्य के प्रमुख कॉलेजों में से एक साइंस कॉलेज रायपुर एक है। प्रवेश के लिए यहां भी आज ओपन काउंसिलिंग बुलाई गई। भारत टीवी लाइव की टीम दोपहर 2 बजे कॉलेज पहुंची। कोरोना काल में लंबे समय के बाद छात्रों की इतनी भीड़ दिखाई दी। आरक्षित वर्ग की कुछ सीटें खाली थी। आखिरी दिन वह भी भर गई। देर शाम तक छात्रों के प्रवेश हुए।

डिग्री गर्ल्स कॉलेज : घंटों तक इंतजार के बाद लौटीं छात्राएं
डिग्री गर्ल्स कॉलेज रायपुर में शहर के प्रमुख कॉलेजों में से एक है। दो साल पहले तक यहां 75% तक पाने वाली छात्राओं को साइंस में प्रवेश मिल जाता था। लेकिन इस बार कई विषयों में इस बार कटऑफ ज्यादा रहा। भारत टीवी लाइव दोपहर 3 बजे यहां पहुंची। कुछ छात्राएं लौट रही थीं। पूछने पर बताया कि साइंस में एडमिशन के लिए सुबह से यहां आए थे। बायो ग्रुप के दूसरे कंबिनेशन में प्रवेश की उम्मीद थी, लेकिन घंटों इंतजार के बाद वह सीटें भी फुल हो गईं।

Share this story