कवर्धा में तनाव बरकरार, पुलिस ने बरामद की शीशी व पत्थर की बोरियां, नेताओं पर हुई FIR

कवर्धा में तनाव बरकरार, पुलिस ने बरामद की शीशी व पत्थर की बोरियां, नेताओं पर हुई FIR

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ के कवर्धा में जारी सांप्रदायिक तनाव अभी तक शांत नहीं हो सका है. शहर में कर्फ्यू लगा हुआ है और आज कर्फ्यू लगे पांच दिन हो गए हैं. शुक्रवार को कवर्धा के पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और अब तक हुई कार्रवाई की पूरी जानकारी दी. एसपी ने बताया कि 3 अक्टूबर से अब तक सिटी कोतवाली में 7 अलग-अलग एफआईआर दर्ज कराई गई हैं. इनमें कुल 93 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. 

एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि एक पक्ष से 16 और दूसरे पक्ष से 77 लोगों को हिरासत में लिया गया है. पुलिस ने कई भाजपा नेताओं के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की है, जिनमें राजनांदगांव सांसद संतोष पांडे, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, पूर्व संसदीय सचिव मोती राम चंद्रवंशी, पूर्व विधायक अशोक साहू, भाजपा के प्रदेश मंत्री विजय शर्मा, विश्व हिंदू परिषद के नंद लाल चंद्रकार, भाजपा युवा मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष कैलाश चंद्रवंशी, युवा मोर्चा के अध्यक्ष पीयूष ठाकुर, जिला भाजपा अध्यक्ष अनिल ठाकुर का नाम शामिल है. 

बता दें कि ज्यादातर बड़े नेताओं की गिरफ्तारी अभी तक नही की गई है. वहीं शहर में कई जगहों से शीशी व पत्थर भरी बोरियां सहित कई आपत्तिजनक सामान बरामद किया गया है. पुलिस विभाग ने दावा किया है कि ये सामान शहर के घोठिया रोड, एकता चौक, दर्री पारा से बरामद किया गया है. हालांकि ये सामान कौन लाया, किसने मंगाया आदि कि जानकारी नहीं मिल सकी है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. जांच के बाद इस मामले में गिरफ्तारी हो सकती है. 

बता दें कि बीती 3 अक्टूबर को कवर्धा के लोहारा नाका चौक पर भिन्न-भिन्न समुदाय के युवक अपना धार्मिक झंडा लगाने के मुद्दे पर भिड़ गए. बात इतनी बढ़ी कि एक पक्ष के लोगों ने दूसरे पक्ष के युवक की जमकर पिटाई कर दी. इस विवाद ने सांप्रदायिक रूप से लिया और दोनों समुदाय आमने-सामने आ गए. इस दौरान पत्थरबाजी और तोड़फोड़ की घटना हुई. हालात को देखते हुए प्रशासन ने जिले में धारा 144 लागू कर दी और बाद में शहर में कर्फ्यू लगा दिया. 

Share this story