बागवानी विभाग ने इस बार 3.22 करोड़ के करीब सेब बॉक्स के उत्पादन का अनुमान लगाया

ok

 हिमाचल प्रदेश में सेब सीजन अंतिम चरण में पहुंच गया है। राज्य के ऊंचाई वाले सेब बाहुल्य इलाकों से सेब मंडियों में पहुंच रहा है। अक्टूबर के अंत में सेब सीजन पूरी तरह खत्म हो जाएगा।

सीजन के दौरान अबतक लगभग ढाई लाख सेब बॉक्स मंडियों में भेजे जा चुके हैं। बागवानी विभाग ने इस बार 3.22 करोड़ के करीब सेब बॉक्स के उत्पादन का अनुमान लगाया है। राज्य में इस बार पिछले साल के मुकाबले में सेब की फसल अधिक है। विगत वर्ष राज्य में सेब कारोबार 1.80 करोड़ बॉक्स तक सिमट कर रह गया था।

मौजूदा समय में शिमला, मंडी और कुल्लू जिलों के पर्वतीय क्षेत्रों सहित किन्नौर जिले का सेब मंडियों में पहुंच रहा है। हर रोज पौने दो लाख सेब बॉक्स देश की विभिन्न मंडियों में भेजे जा रहे हैं। प्रदेश सरकार ने मंडी मध्यस्थता योजना के तहत अबतक 55 हजार मीट्रिक टन सेब की खरीद की है।

बागवानों के लिए राहत की बात यह है कि सेब के पहले से बेहतर दाम मिल रहे हैं। दरअसल त्योहारी मौसम के चलते देश के बड़े शहरों में सेब की मांग बढ़ने लगी है। इससे बागवानों को सेब के ऊंचे दाम मिलने लगे हैं। आगामी दिनों में सेब के दामों में और उछाल आने की संभावना है। शिमला और सोलन की मंडियों में बड़ी तादाद में खरीदार पहुंच रहे हैं।

राज्य के बागवानी विभाग के निदेशक जेपी शर्मा ने सोमवार को बताया कि प्रदेश में सेब सीजन अब अंतिम चरण में चल रहा है। राज्य के ऊंचे क्षेत्रों से सेब बाजार में पहुंचना शेष है। मौजूदा सेब सीजन के दौरान अभी तक लगभग 2.50 करोड़ सेब बॉक्स फल मंडियों व बाजार में पहुंचे हैं।

उन्होंने कहा कि इस साल गत सेब सीजन के मुकाबले अधिक सेब बॉक्स का उत्पादन दर्ज किया गया है।

Share this story