शिवपाल से मिले ओवैसी, राजभर और चंद्रशेखर,यूपी में गठबंधन की कवायद तेज

शिवपाल से मिले ओवैसी, राजभर और चंद्रशेखर,यूपी में गठबंधन की कवायद तेज

अमित कुमार गुप्ता 

नई दिेल्लीः उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव की खिचड़ी पकने लगी है। सभी राजनीतिक दलों ने अपनी गोटियां फिट करनी शुरू कर दी हैं। इस बार का चुनाव काफी अहम होने जा रहा है। छोटे दलों की एक साथ आने की कोशिशें भी तेजी पकड़ती दिखाई दे रही हैं। यूपी की सिायस से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है।

सपा से अलग हुए पूर्व सीएम अखिलेश यादव के चाचा और प्रसपा के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव से आज एएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकार राजभर और आजाद समाज पार्टी के चंद्रशेखर रावण ने मुलाकात की। शिवपाल यादव के घर इन सभी नेताओं ने बैठक की।

सियासी गलियारों में इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। शिवपाल यादव 2 अक्टूबर से पदयात्रा भी करने जा रहे हैं। वहीं, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस मुलाकात में सीट बंटवारे को लेकर चर्चा हुई है। कुछ छोटे दल बीजेपी के खिलाफ मोर्चा बनाकर चुनाव लड़ना चाहते हैं।

कुछ दिन पहले शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन के संकेत दिए थे। अखिलेश यादव ने भी एक कार्यक्रम में कहा था कि हम चाचा और सभी छोटी पार्टियों को साथ लाने का काम करेंगे, लेकिन अब ऐसा होता नहीं दिख रहा है। अखिलेश के चाचा शिवपाल ने जल्द निर्णय लेने के लिए कहा था, लेकिन सपा की ओर से अभी कोई सकारात्म रुख दिखाई नहीं दिया।

ऐसे में माना जा रहा है कि शिवपाल छोटे दलों को साथ लेकर चुनाव मैदान में जाते हैं तो सपा को नुकसान भी उठाना पड़ सकता है। मैनपुरी, फिरोजाबाद, कन्नौज सहित कई जिलों में शिवपाल यादव अच्छी पकड़ मानी जाती है।

दूसरी ओर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर पिछला विधानसभा चुनाव बीजेपी के साथ लड़े थे, लेकिन इस बार खिलाफ हैं। राजभर का प्रभाव पूर्वांचल की कुछ सीटों पर मजबूत माना जाता है। असुद्दीन ओवैसी पहले ही यूपी की 100 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुक हैं। अगर ओवैसी दमखम से चुनाव लड़ते हैं तो मुस्लिम वोटों में सेंध लगाकर सपा को बड़ा नुकसान दे सकते हैं।

Share this story